भारत में खुद की MLM कंपनी कैसे बनाए,full Guide in hindi

हमने इस साइट पर बहुत से MLM प्लान और कंपनी का जिक्र किया है,जिसमे MLM के फायदे,नुक़सान से लेके बहुत सी शुरवाती जानकारी MLM और डायरेक्ट सेलिंग के लिए दी है।परंतु,आज जो आपको हम बताने वाले है,वो काफी आगे का विषय है। जिसमे भारत में खुद की MLM कंपनी कैसे शुरू करे,इस पर जानकारी देंगे।

MLM कंपनी बनानां कोई आसान काम नही है,इसके लिए भारी निवेश,मेहनत और बहुत टैलेंट की जरूरत होती है।इसके अलावा एक कंपनी के निर्माण के लिए अच्छी पहचान का होना जरुरी है। MLM कंपनी बंनाने के दो तरीके सामने आते है,एक तो जो पहले से बाज़ार में मौजूद कंपनी के साथ डायरेक्ट सेलिंग शुरू करना और उसी कंपनी के प्रोडक्ट/सर्विस को नये डायरेक्ट सेलर से बिक्री करवाना।

दूसरा तरीका एक नई कंपनी बनाकर डायरेक्ट सेलिंग बिज़नेस शुरू करना. जिसमे नई मैन्युफैक्चरिंग यूनिट (अगर प्रोडक्ट आधारित है,तो) लगाकर MLM प्लान स्थापित करना. जिसमे कंपनी खुद ही के ब्रांड के प्रोडक्ट बेचती है.

इस पोस्ट में आपको कैसे शुरू से नई MLM कंपनी बनाये,इस पर पूरी जानकारी देंगे।तो,चलिये शुरू करते है।


अपनी MLM कंपनी कैसे बनाये:-

build own mlm company in india

Choose Your Niche:-

MLM कंपनी की शुरवात करने से पहले आपको अपनी कंपनी का niche चुनना पड़ता है।Niche से मतलब है,कि टॉपिक।यानी,कि किस प्रोडक्ट और फील्ड से रिलेटेड आपकी कंपनी होगी। अगर कोई कंपनी हेल्थ से रिलेटेड है,जैसे की Herbalife तो उसे पहले हेल्थ से जुड़ी बहुत सारी जानकारी एक जुट करनी होगी।फिर,हेल्थ सेक्टर में किस प्रोडक्ट की कमी या फिर ज्यादा डिमांड है,इसकी रिपोर्ट निकालनी होगी।इसके बाद कंपनी के प्रोडक्ट क्या-क्या होंगे,इसका फैसला लेना होगा।कंपनी के पास अपनी Niche के ज्यादा से ज्यादा प्रोडक्ट होने चाहिए.

Find Manufacturer & Distributor:

जब कंपनी बन रही हो, तो उसके पास खुद की मैन्युफैक्चरिंग यूनिट होनी चाहिए या फिर अन्य मैन्युफैक्चर जो कंपनी के लिए प्रोडक्ट सप्लाई करे. Amway,Herbalife, Forever Living जैसे विश्व स्थर कंपनियों के पास खुद के नाम पर मैन्युफैक्चरिंग यूनिट होती है.वही Vestige के पास 10 से भी ज्यादा दूसरी कंपनिया है,जो Vestige को प्रोडक्ट मैन्युफैक्चर करके देती है और उसे vestige के डायरेक्ट सेलर बेचते है.

डायरेक्ट सेलर जोड़ने से पहले कंपनी के पास Distributor होने चाहिए,जहाँ से डायरेक्ट सेलर प्रोडक्ट का लेन-देन कर सके. भारत में MLM कंपनी के पास कम-कम से भारत के मेट्रो-सिटी में तो distributor होने ही चाहिए.

GET CERTIFIED:-

MLM certificate

सरकार से और व्यवसाय विभाग से सर्टिफाइड होना जरुरी है।क्योंकि आज के समय में हर एक व्यक्ति किसी भी कंपनी से जुड़ने से पहले उसके सर्टिफिकेट और मान्यतों को देखते है।इसलिए लीगल लॉयर के द्वारा सभी लीगल कागज़ कंपनी के पास होने चाहिए।MLM कंपनी का IDSA या FDSA मेम्बर होना जरुरी नही है. परन्तु राज्य सरकार और केंद्रीय सरकार से मान्यता होनी चाहिए.

\

Price Structure & Income Plan

जैसे ही कंपनी के पास सर्टिफिकेट,प्रोडक्ट Manufacturer और distributor आ जाए।इसके बाद Price Structure सेट करना होगा।जिसमें डिस्ट्रीब्यूटर को कितने में प्रोडक्ट मिलेगा और वह आगे कितने में देगा,यह ध्यान में रखना होता है। Price Structure बनाने में काफी सावधानी रखनी होगी,क्योंकि Structure ऐसा होना चाहिए,जिससे डिस्ट्रीब्यूटर, डायरेक्ट सेलर और उपभोक्ता को खरीदते समय प्रोडक्ट क्वालिटी और कीमत में किफायती हो.इसके आलवा शुरवात के प्रोडक्ट की कीमत कम रखनी चाहिए,ताकि उपभोक्ताओ की अच्छी संख्या में मिल जाये।

Build Company Management:-

management

कंपनी बनने ओर शुरू करके आगे बढ़ाने के लिए एक अच्छे Management की जरूरत होती है।Management ऐसा होना चाहिए,जो डिस्ट्रीब्यूटर से लेकर कस्टमर तक को सपोर्ट करें।Management के पास कंपनी का पूरा लेखा-झोका होना चाहिए और कंपनी के फ्यूचर प्लान भी बने रहने चाहिए। अच्छे मैनेजमेंट के साहरे ही डिस्ट्रीब्यूटर, डायरेक्ट सेलर और उपभोक्ता की संख्या में बढ़ोतरी होगी.


Marketing:-

MLM कंपनी शुरू करने के लिए भी मार्केटिंग करनी पडती है, जिससे डिस्ट्रीब्यूटर और डायरेक्ट सेलर को आकर्षित कर सके. इसके लिए आजके समय में सोशल मीडिया और ऑनलाइन मार्केटिंग अच्छा विकल्प है. वही अब हर MLM कंपनी सेमीनार आयोजित करवाती है,इसलिए यह भी अच्छा विकल्प है.

Other things:-

एक MLM कंपनी चलाने के लिए इन बिन्दुओ के अलावा भी बहुत सी अन्य चीजों की भी जरुरत पड़ती है. जिसमे कंपनी का आधिकारिक कार्यालय, कंपनी की ऑफिसियल वेबसाइट, कंपनी के प्रबंधक, कंपनी की शिकायत समिति जैसी बहुत से आवश्यक चीजों की जरुरत पड़ती है.


डायरेक्ट सेलिंग कंपनी शुरू और चलाने के लिए भारत सारकार की गाइडलाइन

डायरेक्ट सेलिंग के नाम पर हमारे देश में पिरामिड और पोंज़ी स्कीम में भारी बढोतरी हुई है,इसलिए भारत सारकार के उपभोक्ता विभाग ने Direct Selling Guidelines जारी की है, जिसके अनुसार ही डायरेक्ट सेलिंग कंपनी को काम करना होगा.

  • कंपनी की जिम्मेदारी होती है,की किस तरह से उसके डायरेक्ट सेलर प्रोडक्ट की बिक्री कर रहे है. डायरेक्ट सेलर गलत और अधूरी जानकारी लोगो को देता है,तो कंपनी को उसपर कारवाही करनी होगी.
  • कंपनी के पास 3 सदस्यों की शिकायत समाधान समिति होनी चाहिए,जो 45 दिनों में आने वाली समस्यों पर काम करेगी.
  • MLM कंपनी अपने डायरेक्ट सेलर को न्यूनतम इतना प्रोडक्ट खरीदने को नही कह सकती. कंपनी प्रोडक्ट/सर्विस के आलवा किसी भी प्रकार से अपने डायरेक्ट सेलर से पैसा नही ले सकती है. वही जोइनिंग फीस लेना भी गाइडलाइन के खिलाफ़ है.
  • कंपनी को अपने डायरेक्ट सेलर को प्रोडक्ट वापसी निति बतानी होगी, जिसमे डायरेक्ट सेलर के कहने पर कंपनी को प्रोडक्ट वापस लेना होगा और डायरेक्ट सेलर को पैसा refund देना होगा.
  • कंपनी डायरेक्ट सेलर को रोक नही सकती है, डायरेक्ट सेलर कंपनी को कभी भी छोड़ सकता है. अगर कोई डायरेक्ट सेलर दो साल तक एक भी प्रोडक्ट बिक्री नही करता है,तो उसे लीगल नोटिस देकर बहार निकलना होगा.

Direct Selling Guideline में ऐसे बहुत से नियम ओर है, अगर कंपनी उन नियम का पालन करती है,तभी लीगल कही जाएगी,नही तो डायरेक्ट सेलिंग कंपनी गेर-क़ानूनी पिरामिड या पोंज़ी स्कीम करार होगी. आप पूरी Direct Selling Guideline निचे दिए बटन से download करके पढ़ सकते है. डायरेक्ट सेलिंग कंपनी बनाने के लिए गाइडलाइन की धारा 2,3 और 4 जरुर पढ़े.

Direct Selling Guideline Hindi PDF

MLM कंपनी बनाने की लिए निवेश:

MLM कंपनी बनाने के लिए बेशक निवेश की जरुरत पड़ती है. निवेश आपके प्लान पर निर्भर करती है,की आपने कितने क्षेत्रफल में अपना बिज़नेस शुरू कर रहे है और आपका प्रोडक्ट/सर्विस क्या है. अगर MLM कंपनी किसी ओर कंपनी के प्रोडक्ट की डायरेक्ट सेलिंग करेगी,तो मैन्युफैक्चरिंग यूनिट का खर्चा नही होगा.

जो MLM कंपनिया सर्विस आधारित होती है,अक्सर उन्हें कम निवेश की जरुरत होती है. सिर्फ ऑनलाइन चलने वाले MLM एप 10,000 रुपए के निवेश में भी बन जाते है. परन्तु राष्ट्रीय स्तर पर चलने वाली कंपनियों का निवेश करोड़ो में चले जाता है.इसलिए निवेश पूरी तरह से स्थिती पर निर्बर करता है.

निष्कर्ष:-

MLM कंपनी की स्थापना करना कोई आसान काम नहीं है,यह दुनिया के सबसे मुश्किल कामो में से एक है।परंतु,जब कोई व्यक्ति कुछ ठान लेता है,तो उसे पूरी दुनिया भी नही रोक सकती। MLM कंपनी को बंनाने के लिए एक पोस्ट में सारी जानकारी नही आ सकती,इसलिए इस पोस्ट में इतना ही।अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है,तो हमे कमेंट में जरूर बताएं।

10 thoughts on “भारत में खुद की MLM कंपनी कैसे बनाए,full Guide in hindi”

  1. sir, apka ye artical mere jaise startup ke liye khub faydemand h
    sir mlm company banane ke liye kya kya certificate chahiye or ek mlm company build krne ke liye kitni money ki jrurt pdegi is baare me bhi jankari derawe sir

    1. इन्वेस्टमेंट तो आप पर निर्भर करती है,की आप किस स्तर की company बनाना चाहते है.वही सर्टिफिकेट और पुरे प्लान को शुरू करने के लिए आप पहले एक्सपर्ट और किसी अनुभवी व्यक्ति से संपर्क करे

    1. depends on market size. Intial investment should be high, so that more market you can capture and then your business will run on distributer investment.

  2. Mlm company ka ragistere kese kre. plz btayiye Mai ganv se hu jankari nhi hai. Bs plan bnaya net or dekha to pta chala ise mlm kahte hai. Sir margdarshan dijiye.
    Thanks…

  3. Hi sir Mai ke mlm company banana chahta hu ek achhi company jise jure har logo ka benefit hai ho aisa kya kare ki sucksej ho jaye your lagbhag kitana Paisa lagana parega kya product hona chahiye pls coprate me

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *