डायरेक्ट सेलिंग क्या है? MLM क्या है? पूरी जानकारी

डायरेक्ट सेलिंग क्या है? डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन क्या है? डायरेक्ट सेलिंग का भविष्य क्या है? डायरेक्ट सेलिंग के कितने प्रकार है? डायरेक्ट सेलिंग क्यों करें?डायरेक्ट सेलिंग के फ़ायदे और नुकसान क्या है? डायरेक्ट सेलिंग और MLM क्या है?

ऐसे ही बहुत सवाल का जवाब इस लेख में मिलेगा, जो कि सारे डायरेक्ट सेलिंग से जुड़े हुए है। जिससे आपके मन मे डायरेक्ट सेलिंग से जुड़े सारे सवाल खत्म हो जाएगा और इसमे अपना भविष्य बनान है या नहीं इसका फैसला आसानी से कर सकते है। 

डायरेक्ट सेलिंग क्या है?

Direct Selling kya hai

डायरेक्ट सेलिंग नाम सुनकर ही इसका आधा मतलब पता चल जाता है,कि डायरेक्ट सेलिंग क्या है। 

डायरेक्ट यानी सीधा और सेलिंग यानी की बिक्री करना/बेचना। 

कुल मिलाकर कहे तो डायरेक्ट सेलिंग का मतलब सीधे बेचना है। आज भी अक्सर जब हम किसी दुकान से सामान खरीदते हैं,तो डायरेक्ट सेलिंग ना होकर घूम-फिरकर प्रोडक्ट हमारे पास आता है।

जब वह प्रोडक्ट हमारे पास आता है,उससे पहले वह मैन्युफैक्चरर, डिस्ट्रीब्यूटर, होलसेलर, रिटेलर से होकर हमारे पास आता है। पंरन्तु डायरेक्ट सेलिंग में प्रोडक्ट मैन्युफैक्चरर, डिस्ट्रीब्यूटर, डायरेक्ट सेलर ओर फिर हमारे पास आता है।

डायरेक्ट सेलिंग कंपनिया विज्ञापन नही करती है और छोटी-प्रोडक्ट चैन होने के कारण प्रोडक्ट की बिक्री पर कम लोगो में पैसा जाता है।इसलिए डायरेक्ट सेलिंग एक तरह से किफ़ायती शाबित होती है।

डायरेक्ट सेलिंग के प्रकार

अब बात करे, डायरेक्ट सेलिंग के प्रकार की,तो इसे तीन भागों में बांटा गया है।

1. Single Level

सबसे पहले डायरेक्ट सेलिंग में सिंगल लेवल आता है।जिसमे व्यक्ति किसी कंपनी में बतौर डायरेक्ट सेलर ख़ुद जाकर जुड़ता है। वह व्यक्ति कंपनी के अलग-अलग डिस्ट्रीब्यूटर से सामान लेता है और उनकी बिक्री आगे करता है।

इंसमे डायरेक्ट सेलर को प्रोडक्ट MRP अनुसार कुछ प्रतिशत मुनाफा मिलता है। भारत में हिंदुस्तान यूनिलीवर के लिए बहुत से लोग बतौर डायरेक्ट सेलर काम करते है।

2. Party Plan

पार्टी प्लान डायरेक्ट सेलिंग में घर या ऑफिस में लोगो के समूह द्वारा पार्टी रखी जाती है और उसके अंदर कंपनी के प्लान/प्रोडक्ट के बारे में बताया जाता है।

Tupperware कंपनी भी पार्टी प्लान का ही मुख्य इस्तमाल करती है।जिसमे महिलाओं के बीच “किट्टी पार्टी” में कंपनी के प्रोडक्ट का प्रमोशन होता है।

3. MLM

Multi Level Marketing, Network Marketing, Chain Marketing, Pyramid Selling, Referral Marketing सभी एक ही है,बस लोग अलग-अलग नाम से जानते है।

डायरेक्ट सेलिंग में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध मल्टी लेवल मार्केटिंग ही है।जिसमे लोग कंपनी के प्रोडक्ट को बेचते है,साथ में नये लोगो को भी कंपनी से जोड़ते है। जिससे उनके द्वारा किये जाने वाली प्रोडक्ट बिक्री पर जोड़ने वाले व्यक्ति को भी कुछ प्रतिशत मुनाफा मिलता है।

इंसमे जुड़ने वालो के अनुसार लेवल बनते है और इसलिए इसे मल्टी लेवल मार्केटिंग कहाँ गया है। पंरतु MLM में बहुत ज्यादा फ्रॉड और धोखा होता है।जहाँ लोगो को डायरेक्ट सेलिंग के नाम पर पिरामिड स्कीम और पोंजी स्कीम में जोड़ा जाता है। 

इसलिए डायरेक्ट सेलिंग गाइड लाइन बनाई गई है।

डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन

डायरेक्ट सेलिंग में MLM के नाम पर बड़ रहे फ्रॉड को रोकने के लिए ही भारत सरकार ने MLM गाइडलाइन जारी की है। गाइडलाइन में पिरामिड स्कीम और MLM में फर्क बताया है, फिर भी पिरामिड स्कीम में इतनी कमी नही आई है।

गाइडलाइन में बताये नियम का पालन डारेक्ट सेलिंग कंपनी और डायरेक्ट सेलर दोनो को करना होता है, पर बहुत कम डायरेक्ट सेलर इन गाइडलाइन को जानते है।

आप नीचे दी गयी लिंक से डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन डाउनलोड कर सकते है और अगली लिंक से संक्षिप्त में पढ़ सकते है।

डायरेक्ट सेलिंग और MLM

आपको समझ आ गया ही होगा,कि डायरेक्ट सेलिंग और MLM क्या है। आसान शब्दो मे फिर कहे,तो MLM डायरेक्ट सेलिंग का एक प्रकार है। हर MLM कंपनी डायरेक्ट सेलिंग में आती है,लेकिन सभी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी MLM नही करती है।

\

डायरेक्ट सेलिंग के फ़ायदे और नुक्सान

डायरेक्ट सेलिंग करने के कुछ फायदे भी है और कुछ नुक्सान भी।तो दोनों को जानना बेहद जरूरी है। उसके अनुसार ही अपना सारांश निकलना चाहिए।

डायरेक्ट सेलिंग के फायदे

डायरेक्ट सेलिंग हर कोई कर सकता है, इसमे कोई भी उम्र, डिग्री, जाती,लिंग का व्यक्ति जुड़ सकता है। इंसमे कोई क्वालिफिकेशन की आवश्यकता नही होती है।

डायरेक्ट सेलिंग किसी भी समय कभी भी और कही भी कर सकते है।बस आपके पास अपना उपभोक्ता होना चाहिए।

डायरेक्ट सेलिंग से कंपनी के प्रोडक्ट कम कीमत में मिल जाते है।अगर कोई किसी कंपनी से बतौर डायरेक्ट सेलर जुड़ता है,तो उसे कंपनी के प्रोडक्ट MRP से कम कीमत में मिलते है,जिसे वह स्वयं इस्तेमाल कर बचत कर सकता है।

डायरेक्ट सेलिंग में बहुत सी कंपनीयो जुड़ने वाले लोगो को ख़ुद डायरेक्ट सेलिंग सिखाती है, जिससे बहुत कुछ नया सीखने और करने का मौका मिलता है।

डायरेक्ट सेलिंग के नुक्सान

डायरेक्ट सेलिंग में कम्युनिकेशन और मार्केटिंग स्किल की जरूरत पड़ती है।जो सबके पास नही होती है। क्योंकि लोगो को अपने प्रोडक्ट और कंपनी के बारे में सबको बताना होता है और यह इतना आसान नही होता है।

डायरेक्ट सेलिंग में MLM के नाम पर अक्सर लोग लालच देकर बुलाने वाली पिरामिड स्कीम में जुड़ जाते है,जिससे उनका पैसा और समय बर्बाद हो जाता है।

डायरेक्ट सेलिंग में लोग शुरू में अक्सर असफल रहते है और खुद को कमज़ोर महसूस करते है। इसलिए भी कई लोग डायरेक्ट सेलिंग को पसंद नही करते है।

डायरेक्ट सेलिंग कंपनी का महत्व

डायरेक्ट सेलिंग कंपनी का महत्व डायरेक्ट सेलर की सफ़लता में बहुत ज्यादा होता है। कंपनी के प्रोडक्ट, प्लान, पॉलिसी और कमिटी सफ़लता में बड़ा हाथ रखती है।

इसलिए एक अच्छी MLM कंपनी की परख करना बेहद जरूरी है। वही कही लोग तो लालच में आकर MLM कंपनी की जगह पिरामिड स्कीम से जुड़ जाते है,जिससे भारी नुक्सान होता है।

IDSA और FDSA का महत्व

अक्सर भारत में लोग IDSA (Indian Direct Selling Association) और FDSA (Federation of Direct Selling Association) को लेकर बड़े दावे करते है,कि हमारी कंपनी इनकी मेंबर हमसे जुड़े.
पर असल में किसी भी कंपनी का IDSA, FDSA या कोई भी DSA (डायरेक्ट सेलिंग एसोसिएशन) का मेम्बर होना जरुरी नही है. IDSA और FDSA को भी कुछ कंपनियों ने मिलकर ही बनाया है, जिसका इस्तमाल सिर्फ मार्केटिंग के लिए किया जाता है और अपनी कंपनी को इनका मेम्बर बताकर बड़ा कहां जाता है.

कंपनी डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन का पालन कर रही है, यह सबसे जरुरी गुण है.

डायरेक्ट सेलिंग का भविष्य

अंत में सवाल आता है,कि डायरेक्ट सेलिंग का भविष्य क्या है और क्या इसमें अपना करियर बना सकते है।तो इसका जवाब व्यक्ति पर निर्भर करता है। की कैसे कोई डायरेक्ट सेलिंग में काम कर सकता है और कैसे अपना भविष्य सवार सकता है।

डायरेक्ट सेलिंग करना भी एक नोकरी समान ही है,जिसमे किसी कंपनी के प्रोडक्ट बेचने होते है।इसलिए यह निर्भर व्यक्ति पर करता है,कि वह कितनी मेहनत से काम करता है।

डायरेक्ट सेलिंग की अफवाएं और तथ्य

डायरेक्ट सेलिंग में MLM को लेकर बहुत सी अफवाएं और तथ्य छुपे है। MLM को सफल होना,लोग आसान मानते है,पर मात्र 1 प्रतिशत लोग ही MLM में अच्छा मुकाम हासिल करते है।

वही महिलाओं की MLM में सफलता दर पुरुषों से भी ज़्यादा है,जो MLM को हटके इंडस्ट्री बनाती है। तो MLM के फैक्ट और अफवाओं पर लिखे निम्न लेख भी पढ़ सकते है

डायरेक्ट सेलिंग में सफलता

डायरेक्ट सेलिंग में सफलता डायरेक्ट सेलर पर ही पूरी तरह निर्भर करती है,की कैसे वह कंपनी चुनकर अपना व्यपार शुरू करता है. हमने पहले भी कहाँ है,कि डायरेक्ट सेलिंग में सफल होना इतना आसान ही है. इसमें 1 से 2 प्रतिशत लोग ही नाम कमा पाते है. परन्तु सफल होना नामुमकिन नही है. अगर अच्छे से मेहनत करे,तो एक दिन सफल होना पक्का है.

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है,कि आपको डायरेक्ट सेलिंग के बारे में इस लेख से बहुत कुछ जानने को मिला होगा और डायरेक्ट सेलिंग व MLM की पूरी जानकारी मिली होगी । अगर कोई भी सवाल या सुझाव है,तो कमेंट में जरूर बताएं।

3 thoughts on “डायरेक्ट सेलिंग क्या है? MLM क्या है? पूरी जानकारी”

  1. इस कंपनी में पैसे कैसे कमाए जाते हैं और इस कंपनी में किसी प्रकार का कोई भी धोखेबाजी का काम तो नहीं है

    1. MLM में सफलता दर मात्र 0.04 प्रतिशत है. यानी की 10,000 में से सिर्फ 4 लोग ही सफल होते है. इसलिए अगर आपको MLM पूरी तरह से समझ आ गया है, तभी अपना पैसा और समय यहाँ निवेश करे. अगर आप सिंगल-लेवल डायरेक्ट सेलिंग कंपनी से जुड़ते है, तो इसमें 20% सफलता दर है. इसलिए MLM से बेहतर सिंगल लेवल डायरेक्ट सेलिंग करना अच्छा है.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *