IDSA क्या है? IDSA कंपनी का महत्व कितना है?

IDSA के बारे में आपने सुना ही होगा, अगर आप लंबे समय से MLM या डायरेक्ट सेलिंग से जुड़े हो। IDSA क्या है? IDSA क्या करती है और एक Direct Selling कंपनी के लिए IDSA सर्टिफाइड होना कितना जरूरी है? इस विषय पर चर्चा इस लेख में करेंगे। जिसके अंतर्गत IDSA के बारे में बहुत कुछ अनसुनी बाते भी जानने को मिलगी।

IDSA क्या है?

what is IDSA in hindi

IDSA की Fullform “Indian Direct Selling Association” है।जो एक Autonomus स्वयं-संचालित चुन्नीदा MLM कंपनियों का समुदाय है। IDSA भारत सरकार की संस्था नही है, बल्की इसकी शुरूआत कुछ डायरेक्ट सेलिंग कंपनियों ने मिलकर ही की है। जो मूल रूप से भारत सरकार के डायरेक्ट सेलिंग निर्देश का पालन करती है।

IDSA का इतिहास :-

IDSA की शुरुवात 1996 में मुम्बई में हुई थी और 1998 में इसका मुख्य ऑफिस दिल्ली में स्थापित किया। IDSA की शुरूआत तीन डायरेक्ट सैलिंग कंपनी में मिलकर की जिनका नाम Amway, Avon और Oriflame है। IDSA के पहले Managing Director श्री मोहन कृष्णन को बनाया गया।

IDSA Member List

  • Amway
  • Altos
  • AMC
  • Avon
  • 4Life
  • Trading
  • Blulife

IDSA मेम्बरशिप के नियम

  • IDSA के मेंबर बनने के लिए कुछ नियम और आवयश्कता है, जिनकी पूर्ति करना जरूरी है।जिन्हें संक्षिप्त में नीचे बता रहे है।
  • सबसे पहले तो डायरेक्ट सेलिंग कंपनी एक साल से पुरानी होनी चाहिए और कंपनी की खुदकी मैन्युफैक्चरिंग यूनिट होनी चाहिए।
  • IDSA मेंबर कंपनी को भारत सरकार के सभी डायरेक्ट सेलिंग दिशा निर्देश का पालन करना जरूरी है।
  • कंपनी के मुख्य प्रमोटर और फाउंडर आर्थिक तौर पर मजबूत यानी अमीर होने चाहिए।
  • कंपनी को कुछ जरूरी डॉक्यूमेंट IDSA के पास जमा करवाने होते है।
  • वही अंतिम में IDSA मेंबर बनने के लिए कंपनियों को फिक्स फीस भी देनी होती है।

IDSA Membership Fees 

IDSA मेंबर बनी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी को फीस भी देनी पड़ती है। इंटरनेट पर मिली जानकारी अनुसार यह फीस सालाना 5 लाख रुपए तक है।जिसकी पृष्टि नही की गई है।क्योंकि फीस कितनी है? इसपर जानकारी IDSA की साइट पर नही है।

IDSA के फ़ायदे

IDSA के कुछ फ़ायदे जरूर है, जिनके तहत डायरेक्ट सेलिंग कंपनी और MLM कर्ताओ को कुछ लाभ है। IDSA के चलते डायरेक्ट सेलिंग कंपनी में मेल-मिलाप बढ़ता है और MLM कंपनी एक साथ आ सकती है। 

इसके आलवा IDSA भारत सरकार के निर्देश का पालन करवाती है। जो बेहद जरूरी भी है।

क्या कंपनी का IDSA सर्टिफाइड होना जरूरी है?

IDSA सर्टिफाइड होना किसी भी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी के लिए जरूरी नही है। अगर कोई डायरेक्ट सेलिंग कंपनी भारत सरकार में रजिस्टर है, तो वो भारत मे काम कर सकती है, उसके लिए IDSA या FDSA या MLM यूनियन का मेंबर होना कोई जरूरी नही है।

\

IDSA की सच्चाई

IDSA आज लोगो को धोके में रख रही है। सबसे पहले तो इन्होंने इस संस्था का नाम Indian Direct Selling Association रखा, जिससे यह एक भारतीय संस्था लगती है।पर असल मे इसकी शुरुआत Amway, Avon और Oriflame ने मिलकर की है, इसमे से एक भी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी भारतीय नही है।

दूसरी बात आज भी IDSA मेंबर में 21 में से 16 कंपनिया तो विदेशी है, जबकी देश मे स्थानीय डायरेक्ट सेलिंग कंपनी की कोई कमी नही है।इसलियेे यह भारतीय संस्था कम लगती है।

उसके बाद यह की IDSA मेंबर बनने के लिए कंपनी का धनी होना जरूरी है। लेकिन भारत मे बहुत सी कंपनी है, जो नई और बहुत जबरदस्त प्लान, प्रोडक्ट और सर्विस लेकर आती है। और उन्हें IDSA मान्यता नही देता है, क्योंकि इन्हें पता है,कि एक तरह से इनका ही प्रतियोगी बढ़ेगा। इसलिए वे मान्यता आसानी से नही देते है।

वही IDSA मेंबर बनने के लिये सालाना 5 लाख रुपए फीस मांगी जाती है,जो पूरी तरह से गलत है। वही IDSA कोई निष्पक्ष संस्था नही लगती है।

क्यों भारतीय कंपनी को IDSA की जरूरत नही है?

  • IDSA की जरूरत भारतीय डायरेक्ट सेलिंग कंपनी को नही है। क्योंकि जो IDSA का संचालन करती है, वे भारतीय कंपनिया नही है।
  • उसके बाद IDSA कोई निष्पक्ष संस्था नही लगती है,जो सभी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी को एक समान मानती हो।बल्कि ये कंपनी के आर्थिक स्थिति को देखती है।
  • IDSA सर्टिफाइड होने के लिए कंपनियों को अपने ही प्रतियोगी के पास जाना पड़ता है, जो वाजिद नही लगता है।वही कोन अपना प्रतियोगी बनता देखना चाहेगा।
  • एक कंपनी को IDSA मेंबर बनने के लिए भारी रकम चुकानी पड़ती है, जिसकी कोई जरूरत नही है।

IDSA है मार्केटिंग का हिस्सा

जो कंपनिया अब IDSA जुड़ी हुई है, वे IDSA के नाम को मार्केटिंग का हिस्सा बना चुकी है। ये कंपनिया दावा थोककर कहते है,कि हमारी कंपनी IDSA Certified है। और जिन्हें IDSA की सच्चाई और संरचना नही पता होती,वे लोग इस जूठी मार्केटिंग का शिकार बन जाते है और IDSA सर्टिफाइड कंपनी को बड़ा मानते है।

इसके अतिरिक्त बहुत-सी छोटी-बड़ी भारतीय डायरेक्ट सेलिंग कंपनिया, जो IDSA की मेंबर नही है, बेवजह लोगो के बीच में बदनाम होती है। और IDSA मेंबर ना होने का इंजाम झेलती है। इसलिए अगर कोई भारतीय कंपनी IDSA , FDSA या MLM यूनियन की मेंबर नही है,तो उस कंपनी में कोई बुराई नही है।बस प्रोडक्ट, प्लान और सर्विस किफ़ायती होनी चाहिए।

हमे उम्मीद है,कि इस लेख से आपको कुछ नया जानने को मिला होगा। अगर कोई भी सवाल या सुझाव है, तो कमेंट में जरूर बताएं।

9 thoughts on “IDSA क्या है? IDSA कंपनी का महत्व कितना है?”

  1. Aaj tak kisi ne ye sab kuch bataya hi nahi
    aaj aapke is article se ye reality pata chala
    so thank you so much.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *