fbpx

क्या MLM लीगल है? नेटवर्क मार्केटिंग कानून

TechMistri.com की इस पोस्ट में हम MLM की मान्यता यानी Legality को लेकर बात करने वाले है और यह जानेंगे, कि भारत में MLM लीगल है या नहीं?

हमने पिछले लेखों में समझा था, कि MLM क्या है और क्यों लोग MLM को फ़्रॉड मानते है? इस लेख में भी आपको MLM की मान्यता को लेकर और जानकारी मिलेंगी।

हमारे देश में लाखों लोग प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष रूप से MLM से जुड़े हुए है और हज़ारो कंपनिया MLM प्लान चलाती है। लेकिन अक्सर नए लोग, जो डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री के बारे में पहली बार सुनते है, उनके मन में सवाल रहता ही है, कि MLM लीगल है या नहीं? क्या नेटवर्क मार्केटिंग गैरकानूनी है?

mlm laws in hindi

तो इसी के बारे में हम जानेंगे और अंत में देखेंगे, कि एक लीगल और अच्छी MLM कंपनी कैसे चुनें?

क्या MLM लीगल है?

सबसे पहले हम सीधे, इस सवाल का ही जवाब देते है, कि MLM लीगल है या नहीं?

तो हाँ, MLM भारत में पूरी तरह से लीगल है। MLM एक पूरी अलग इंडस्ट्री है, जिसमें बहुत सारी MLM कंपनियां मौजूद है, (जैसे Vestige, Amway, Ok Life Care, Herbalife)।

यह MLM कंपनिया भारत सरकार (MCA) के अंतर्गत रजिस्टर होती है। लेकिन MLM कंपनी का लीगल डायरेक्ट सेलिंग कंपनी लिस्ट में होना भी जरूरी है।

अगर कोई कंपनी इस लिस्ट में नहीं है, तो उस कंपनी को भारत में MLM प्लान चलाने की अनुमति नहीं है।

MLM और पिरामिड स्कीम फ़्रॉड

MLM भारत में लीगल है, लेकिन पिरामिड स्कीम पर पूरी तरह से पाबंधी है। अक्सर पिरामिड स्कीम चलाने वाली कंपनिया खुदकों MLM बताकर लोगों से फ़्रॉड करती है।

पिरामिड स्कीम, MLM जैसी ही होती है, लेकिन इसमें लोगों का पैसा नेटवर्क (पिरामिड) में घुमाया जाता है।

MLM कंपनिया प्रॉडक्ट/सर्विस आधारित होती है, जिसमे पैसा स्वयं या डाउनलाइन में हो रही प्रॉडक्ट बिक्री पर होती है।

पिरामिड स्कीम में पैसा लोगों को जोड़ने पर मिलता है। पिरामिड शुरू में पैसा भी देती है। लेकिन एक समय बाद फरार हो जाती है।

अक्सर लोग अज्ञानता या लालच के कारण MLM की जगह फ़्रॉड पिरामिड स्कीम से जुड़ जाते है, जिससे उनको और उनकी डाउनलाइन नुकसान होता है।

पिरामिड स्कीम को आप कंपनी के प्रॉडक्ट/सर्विस देखकर पता लगा सकते है। अगर कंपनी के प्रॉडक्ट बहुत महंगे है या लोगों को जोड़ने पर पैसे देती है, तो वो कंपनी बहुत जल्दी फ़्रॉड करने वाली है।

लीगल नेटवर्क मार्केटिंग कंपनिया

MLM तो पुरी तरह से लीगल है, लेकिन इस इंडस्ट्री में मौजूद कुछ गलत कंपनिया फ़्रॉड करती है और पिरामिड स्कीम चलाती है। जिसके कारण लोग MLM को फ़्रॉड समझते है।

इसलिए इस बात को समझिए, कि MLM इंडस्ट्री फ्रॉड नहीं है, बल्कि कुछ खुदकों MLM बताने वाली कंपनिया फ्रॉड हो सकती है। इन कंपनियों के फ़्रॉड से बचा जा सकता है।

किसी भी MLM कंपनी के प्रॉडक्ट खरीदने और जुड़ने से पहले निम्न चीज़े जरूर चेक करें।

  1. सबसे पहले कंपनी का नाम MCA की वेबसाइट पर चेक करें, अगर कंपनी MCA के अंतर्गत रजिस्टर है, तो उसकी पूरी जानकारी आपको मिल जाएगी।
  2. उसके बाद कंपनी का नाम Consumer Affair द्वारा जारी लीगल डायरेक्ट सेलिंग कंपनी लिस्ट में देखें। अगर कंपनी का नाम इस लिस्ट में है, तो उसे MLM प्लान चलाने की अनुमति भारत में है। (अकसर नई कंपनिया MCA और लीगल डायरेक्ट सेलिंग कंपनी लिस्ट में नहीं होती है। आमतौर पर इस लिस्ट में आना कंपनी के 100% सही होने का प्रमाण भी नहीं है, इसलिए अंतिम बिंदु को सबसे ज्यादा ध्यान में रखें।)
  3. अंतिम और सबसे महत्वपूर्ण बात, जुड़ने से पहले MLM कंपनी के प्रॉडक्ट और प्लान को देखें। अगर कंपनी के प्रॉडक्ट अच्छी क्वालिटी और किफायती है, तो उसपर भरोसा कर सकते है। बस कंपनी के प्लान को समझे और जाने, कि लोगों को जोड़ने पर कंपनी पैसे देने का वादा तो नहीं कर रहीं? अगर कंपनी ऐसा वादा करती है, तो वो फ़्रॉड हो सकती है। क्योंकि वास्तविक MLM कंपनी में ऐसा मुमकिन नहीं है।

डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन

MLM यानी डायरेक्ट सेलिंग को लीगल तो मान लिया है, लेकिन इसमें बहुत से फ़्रॉड होते थे और आज भी होते है। इसलिए 2016 में केंद्रीय सरकार ने डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन जारी की है, उसके आधार पर हर राज्य को अपनी डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन जारी करनी है, जिससे इस इंडस्ट्री में फ़्रॉड कम हो और सब सही तरीकें से हो।

इस गाइडलाइन में MLM कंपनी, डायरेक्ट सेलर और अंतिम उपभोक्ता के लिए जरूरी नियम और दिशानिर्देश है, जिन्हें डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री में मौजूद हर किसी को मानना जरूरी है।

MLM इंडस्ट्री कि यही समस्या है, कि लोग इसमें पहले शिक्षा नहीं, खाली मोटिवेशन लेते है। जिससे के कारण इंडस्ट्री गलत दिशा में है।

निष्कर्ष

हमें उम्मीद है, कि यह लेख आपके लिए मददगार होगा और समझ आ गया होगा, कि यह MLM इंडस्ट्री फ़्रॉड नहीं है, बल्कि इस इंडस्ट्री में मौजूद कुछ कंपनिया फ़्रॉड होती है।

अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है, तो कमेंट में जरूर बताये।

शेयर करे : Share It

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

सोशल मीडिया से जॉइनिंग करना सीखें
सोशल मीडिया से जॉइनिंग करना सीखें