fbpx

Future of Direct Selling in India | MLM का भविष्य क्या है?

Future of Direct Selling in India in Hindi: आज की यह पोस्ट बेहद उपयोगी होने वाली है, खासकर उनके लिए जो MLM (डायरेक्ट सेलिंग) से जुड़े हुए है या जुड़ने का सोच रहे है। यहाँ बात किसी एक MLM कंपनी की नहीं हो रही है, बल्कि पूरे MLM Industry के अस्तित्व पर यह लेख है। जिसमें हम MLM के भविष्य की बात करेंगे।

MLM और डायरेक्ट सेलिंग का भविष्य क्या है? (What is Future of MLM and Direct Selling in Hindi) क्या MLM और डायरेक्ट सेलिंग में समय निवेश करना सही है? MLM और डायरेक्ट सेलिंग क्यों करे?

MLM में सिर्फ पैसा नहीं, बल्कि अमूल्य समय भी देना पड़ता है। वही अधिकतर लोग 18 से 30 की उम्र में MLM से जुड़ते है, ऐसे में अपने गोल्डन पीरियड में सही जगह पर अपना समय लगाना बेहद जरूरी है।

इसलिए MLM से जुड़ना चाहिए या नहीं और MLM का भविष्य क्या है? यह सवाल उमड़ कर सामने आता है। इसी विषय पर यह लेख है, जिसमे हम Network Marketing Future in India पर बात करेंगे और क्या 2025 तक MLM पर किये जाने वाले दावें सच होंगे? यह भी जानेंगे।

यह लेख काफी लंबा होगा, लेकिन इसे ध्यान से पढ़े और वास्तविक तथ्यों को समझे, जो आपने कही नहीं सुने होगे।

Future of Direct Selling in India

MLM के भविष्य की परिकल्पना करने से पहले MLM क्या है और यह शुरू क्यों हुआ? ये जानना बेहद जरूरी है।

MLM एक तरह का मार्केटिंग व डिस्ट्रिब्यूशन का तरीका है, जिसमें कंपनी अपने उपभोक्ता को ही बतौर विक्रेता काम करने का मौका देती है।

MLM कंपनी से कोई भी व्यक्ति जुड़ सकता है, फिर प्रॉडक्ट की बिक्री व अन्य लोगों को अपनी डाउनलाइन में जोड़कर पैसा कमा सकता है। यहाँ डाउनलाइन की डाउनलाइन से भी कमाई हो सकती है, इसलिए इसमें पैसिव इनकम मिलती है। जुड़े लोगों की संरचना अनुसार डायरेक्ट सेलिंग अलग-अलग प्रकार की होती है।

MLM की शुरुआत 19वी शताब्दी में Avon द्वारा अमेरिका में हुई थी। उस समय प्रॉडक्ट/सर्विस की मार्केटिंग के लिए ज्यादा विकल्प नहीं होते थे, इसलिए वर्ड ऑफ माउथ मार्केटिंग को आधार बनाकर डायरेक्ट सेलिंग की शुरुआत हुई।

Amway के शुरू होने के बाद, कुछ सालो में ही डायरेक्ट सेलिंग कंपनी और डायरेक्ट सेलर में एक दम इजाफा आ गया।

1995 के बाद इस इंडस्ट्री का उफान भारत में आया और बड़ी-बड़ी कंपनी 1995 से लेकर 2005 में विकसित हुई, जो आज भारत की शीर्ष डायरेक्ट सेलिंग कंपनी सूची में है।

लेकिन अब एक नयी दशक शुरू हो चूक है और सवाल यह है, कि डायरेक्ट सेलिंग का भविष्य क्या होगा?

क्योकिं इसमें सालो का समय सफलता के लिए देना होता है और अगली 1 दशक में इसका चलन रहेगा या नहीं, यह सवाल मन में रहता ही है।

डायरेक्ट सेलिंग के फायदे

सबसे पहले हम MLM के कुछ फायदे जानते है और क्यों इसका आगे भी चलन हो सकता है, यह जानते है।

नई स्किल्स

डायरेक्ट सेलिंग में व्यक्ति को लोगो के पास जाकर अपने प्लान और प्रॉडक्ट का प्रचार करना होता है। शुरुआत में बेशक परेशानी होती है, पंरन्तु टीम-वर्क और लगन के साथ बहुत जल्द नई स्किल्स MLM से सीखने को मिल जाती है।

कम्युनिकेशन, मार्केटिंग, प्रेजेंटेशन, इंटरपर्सनल स्किल्स, जो आगे कोई भीे बिज़नेस करने के मामले में बेहद काम आती है।

आत्मविश्वास

MLM में बहुत रिजेक्शन मिलते है। जिससे कई लोग तनाव में आ जाते है, पंरन्तु कुछ लोग इन रिजेक्शन से पीछे नही हटते और अपना काम करते जाते है। ऐसे लोगो का आत्मविश्वाश काफी ऊपर तक चले जाता है और ये जिंदगी में ओर किसी भी रिजेक्शन से पिछे नही हटते है। जो सफल जीवन के लिए बेहद जरुरी है।

सबके लिए

MLM और डायरेक्ट सेलिंग को कोई भी, कही भी और कभी भी कर सकता है। इसके लिए उम्र, डिग्री, लिंग, जाती या कोई भी अन्य जरूरत नहीं है।

अन्य फायदे

वही MLM में काम की कोई बाधा नही होती है, यानी जितना ज्यादा काम करते है, उतना ज्यादा फायदा होता है। MLM में किसी भी क्वालिफिकेशन और डिग्री की जरूरत नहीं होती है, सिर्फ स्किल काम आती है।

MLM की उत्पत्ति

इसमें कोई सवाल नहीं है, कि विदेशो में और भारत में भी MLM का विकास पिछले दो दशकों में बहुत अच्छा हुआ है।

IDSA अनुसार, 2018-19 में पूरे डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री का टर्नओवर 13,000 करोड़ रुपये से ज्यादा है। लेकिन अंतराष्ट्रीय स्तर पर भारत इस सूची में थोड़ा पीछे है, वही अमेरिका, जापान, चीन का योगदान सबसे ज्यादा रहा है।

सुनने में 13,000 करोड़ बड़ी राशि लगती है, लेकिन एक इंडस्ट्री को दर्शाते समय यह अंक बहुत कम है।

तुलना के लिए आप सन 2000 में शुरू हुई, Dmart को ही ले लीजिए। Dmart सुपरमार्किट चैन है, जिसके देश भर में सिर्फ 216 सुपरमार्केट है और Dmart का टर्नओवर 25,000 करोड़ रुपये है।

वही दूसरी ओर, देश में 450 से ज्यादा लीगल डायरेक्ट सेलिंग कंपनी है और पूरी इंडस्ट्री का टर्नओवर Dmart के टर्नओवर का आधे के जितना है।

FICCI-KPMG ने 2014-15 में जारी की रिपोर्ट का कहना था, कि 2025 तक भारतीय डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री 64,500 करोड़ रुपये की होगी, लेकिन अभी के हालात अनुसार यह अनुमान गलत साबित होता है।

बेशक लॉकडाउन में MLM का चलन बड़ा था, लेकिन जैसे दावें लीडर करते थे, वैसा कुछ मुमकिन नहीं हो पाया है।

अक्सर MLM लीडर बड़े सपने, दावें और मनघटन कहानी के आधार पर चलते है, जबकि ये वास्तविक आंकड़े चिंताजनक है।

MLM का अंधेरा पक्ष

MLM का अंधेरा पक्ष बहुत से लोगों को नहीं पता है। जहाँ हम MLM को बड़ा बताते है और लीडर इसे भविष्य का व्यापार बताते है, लेकिन वर्तमान में इसके काले सच के बारे में शायद हमें नहीं पता है।

उत्तर प्रदेश, बिहार, पश्चिम बंगाल, राजस्थान समेत अन्य राज्यों में MLM का दूसरा रूप देखने को मिलता है। इन राज्यों के छोटे गांव में गरिबी और बेरोजगारी को शिकार बनाया जाता है और MLM के नाम पर फ्रॉड होता है।

इन फ्रॉड में कोई भी लीगल डायरेक्ट सेलिंग कंपनी के कुछ लीडर होते है, जो जॉब, फिक्स सैलरी या किसी बड़ी कंपनी जैसे टाटा, रिलायंस का नाम लेकर लोगो को बुलाते है।

वहाँ उनकी कमजोरी को ध्यान में रखते हुए बड़े सपने दिखाए जाते है और ट्रेनिंग के नाम पर हज़ारो रुपये लिए जाते है।

कई बार लोगो को जबर्दस्ती 1-2 महीने के लिए एक जगह पर रखा जाता है और उन्हें MLM से जुड़ने के लिये अधूरी या गलत जानकारी व झूठ बोलकर फसाया गया था।

मैंने निजी रूप से कुछ लोगों से बात की है, जिन्हें MLM से जुड़वाने के लिए बंधक की तरह रखा जाता है।

वही सरकार की 2016 में जारी डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन सिर्फ नाम की है।

MLM का भविष्य बाद की बात है, लेकिन वर्तमान में MLM से बहुत से लोगों का भविष्य खतरे में जरूर है और यह चिंताजनक विषय है। यहाँ हम पूरी इंडस्ट्री को गलत नहीं बता रहे है, लेकिन यह गलत काम इंडस्ट्री में होते है और जिनपर कोई ध्यान नहीं देता।

पिरामिड स्कीम और फ्रॉड लीडर

MLM के नाम पर फ्रॉड पिरामिड स्कीम का चलन देश में शुरू से ही रहा है।

पिरामिड स्कीम सामान्य MLM कंपनी से ज्यादा लुभावनी लगती है, जिसके लालच में लीडर इनका जोर-शोर से प्रचार करते है। इससे वे खुद तो मुनाफा कमा लेते है, लेकिन हज़ारों-लाखों लोगों का पैसा फ्रॉड में चले जाता है।

eBiz जैसी पिरामिड स्कीम देश में 2 दशकों तक चलती रही, लेकिन जब इन कंपनी पर कुछ सवाल उठते है, तो इनके डायरेक्ट सेलर दूसरो को कम-बुद्धि का समझते है। eBiz अकेली कंपनी नहीं थी, बल्कि अभी भी पिरामिड स्कीम चलाने वाली कंपनिया काम करती है, बस इन्होंने खौफ के कारण अपने प्रॉडक्ट व प्लान जरूर बदल दिये है।

इंडस्ट्री में फर्जी लीडर की भी कोई कमी नहीं है। हालही में, मैने एक सम्मानजनक डायरेक्ट सेलिंग लीडर के ऑनलाइन वेबिनार को देखा और उन्होंने उस फ्री वेबिनार में ऑनलाइन डायरेक्ट सेलिंग सिखाने का वादा किया था। लेकिन उसकी जगह उन्होंने कुछ किस्से सुनाए, फिर 1-2 महीने में MLM से 1 लाख कमाने का लालच दिया और फिर अंत में खुदके कोर्स का प्रचार किया और अभी भी उनकी टीम से कोर्स खरीदने के सेल्स-पिच के कॉल आते है।

कोर्स का प्रचार करना गलत नहीं है, लेकिन झुठे वादे और सिर्फ लालच देकर युवाओं को ग़ुमराह करना बिल्कुल गलत है और पिछले 4-5 सालों में तो यह करना अधिकतर लीडर का रिवाज बन गया है।

अगर पिरामिड स्कीम और फ्रॉड लीडर ऐसे ही रहें, तो डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री में मौजूद लोगों के वर्तमान की तरह भविष्य भी खतरे में है। इसके लिए स्वयं डायरेक्ट सेलर को ही जागरूक होना होगा।

MLM की सफलता दर

जब MLM के भविष्य की बात कर रहें है, तो इसकी सफलता दर को ध्यान में रखना बेहद जरूरी है।

आज के समय में भारत में लाखों लोग डायरेक्ट सेलिंग से जुड़े हुए लोग है, लेकिन इसमें से कितने लोग वास्तव में अच्छा कमा रहे है, यह किसे पता है?

डायरेक्ट सेलिंग कंपनी के लिए फेक चेक (पेआउट), सेमिनार में बड़ी गाड़ी, घर, और यात्रा करवाने के सपने दिखाना साधारण सी बात है।

लेकिन आज के समय में कोई भी MLM कंपनी अपने आंकड़े नहीं दिखाती है,

  • कितने लोग कंपनी से जुड़े है,
  • कितना व कब पेआउट हुआ है
  • और डायरेक्ट सेलर का औसतन कमीशन कितना रहा?

हाँ, ऊपर के 10-20 लीडर का पेआउट हर महीने सबको दिखाना जरूरी है। क्योकि ये चुनिन्दा लीडर इनके राजदूत होते है और इनके झूठे साम्राज्य पर ही कंपनिया चलती है, तभी तो करोड़ों में इन फ्रॉड लीडर की बोली लगती है।

Herbalife ने अपने अमेरिका के सभी डायरेक्ट सेलर की औसतन कमाई एक बार बताई थी। Herbalife से जुड़े डायरेक्ट सेलर औसतन $2700 सालाना कमाते है। दूसरी ओर अमेरिका में सबसे कम सैलरी की नोकरी भी करें, तो $14,000 सालाना आराम से कमा सकते है। यानी Herbalife डायरेक्ट सेलर की औसतन 5 गुना कम कमाई होती है, जबकि वादे करोड़पति बनाने के होते है।

सिर्फ Herbalife ही नहीं, बल्कि सभी कंपनी के आंकड़े ऐसे चौकाने वाले ही होंगे। इसलिए अंदर के आंकड़े बाहर नहीं लाना, इसमें ही कंपनी की भलाई होती है।

MLM में 0.4% यानी 1000 में से सिर्फ 4 लोग ही सफल होते है।

MLM में 0.4% सफल लोग भी कौन होते है, इसे हमने अपने एक लेख में बताया था, जिसमें अधिकतर कंपनी के ही मतलबी लीडर शामिल होते है, जो सिर्फ कंपनी का प्रचार करने के लिए किसी भी हद तक जा सकते है।

वही Job Vs MLM लेख में हमने जॉब और नेटवर्क मार्केटिंग का विस्तार से विश्लेषण किया है, वह जरूर पढ़ें।

MLM और अन्य वितरण तरीके

अभी तक हमने MLM से जुड़े कुछ आंकड़े और अन्दर की बात जानी थी। यहाँ हम MLM की तुलना अन्य मार्केटिंग व डिस्ट्रिब्यूशन के तरीको से करेंगे। 

MLM भी एक मार्केटिंग का तरीका है, ऐसे में अन्य मार्केटिंग के तरीकों के आगे इसका दबदबा है या नहीं, यह जानेंगे।

यहाँ हम एक नियम को ध्यान में रखेंगे, स्वस्थतम की उत्तरजीविता (Survival of the fittest) यानी जिसके फायदे ज्यादा है, वह ही आगे और चलन में रहेगा।

दरअसल नेटवर्क मार्केटिंग वर्ड ऑफ माउथ पर चलती है, लेकिन जब हम नेटवर्क मार्केटिंग शब्द को जुबान पर लाते है, तो अक्सर सामने वाले की प्रतिक्रिया बदल जाती है।

इसमें एक सी सीधी बात है, जब हम किसी को कुछ सलाह भी देंगे और बीच में अपना फायदा रखेंगे, तो सामने वाला हमारी वास्तविक सलाह को भी प्रचार ही मानेगा।

ऊपर से आज के समय में लोग डायरेक्ट सेलिंग कंपनी के प्रॉडक्ट को ध्यान में नहीं रखते है और प्लान अनुसार अपना प्रॉफ़िट देखकर किसी भी चीज़ को बढ़ावा दे देते है। इससे नेटवर्क मार्केटिंग का वजूद ही गलत शबीत होता है और यह मेरा निजी विचार है।

Traditional Marketing Vs MLM

MLM कंपनी के सेमीनार में हम हमेशा एक तुलना पारंपरिक मार्केटिंग और MLM के बीच करते ही है और लोगो को बताते है, कि कैसे नेटवर्क मार्केटिंग मिडिलमैन को हटाती है। लेकिन वास्तविकता कुछ और है।

पारंपरिक मार्केटिंग व डिस्ट्रिब्यूशन में होलसेलर, विज्ञापक, रिटेलर और स्टोकिस्ट होते है और MLM में इन सबकी जगह पर डायरेक्ट सेलर होते है।

लेकिन जब हम उपभोक्ता की नजर से देखे, तो अक्सर उनके लिए नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी के प्रॉडक्ट महंगे होते है। इसमें कोई दो राय नहीं है, कि नेटवर्क मार्केटिंग लोगों को एक कमाई का अवसर देती है, लेकिन अंतिम उपभोक्ता को तो अच्छे और सस्ते प्रॉडक्ट की जरूरत होती है, इसीलिए आज भी पारंपरिक मार्केटिंग MLM से बहुत आगे है, जबकि डायरेक्ट सेलर दिन रात कोशिश करते है।

हमारा यह मानना रहा है, कि MLM में पारंपरिक मार्केटिंग की तरह मिडिलमैन नहीं होते है, पर असल में MLM में भी मिडिलमैन होते है, जब एक प्रॉडक्ट बिकता है, तो कंपनी के नेटवर्क में मौजूद सभी डायरेक्ट सेलर (Upline) को कुछ कमीशन जाता है। यही एक बड़ा कारण है, कि नेटवर्क मार्केटिंग कंपनी के प्रॉडक्ट महंगे होते है और यह चीज़ अंतिम उपभोक्ता व डायरेक्ट सेलर दोनों को नहीं पसंद।

वही पारंपरिक वितरण में उपभोक्ता के पास कीमत, क्वालिटी, ब्रांड व जरूरत अनुसार MLM की तुलना में ज्यादा विकल्प होते है।

ऑनलाइन मार्केटिंग Vs नेटवर्क मार्केटिंग

आज से कुछ दशकों पहले इंटरनेट और टेक्नोलॉजी इतनी नहीं थी। इसलिए MLM एक मार्केटिंग व प्रमोशन का अच्छा विकल्प था। पर अब सोशल मीडिया पर मार्केटिंग और ई-कॉमर्स से बिक्री करना बेहद आसान और ज्यादा प्रभावी रहता है, इसे हम डिजिटल मार्केटिंग भी कहते है।

जो मिडिलमैन हटाने के फायदे की बात हम पारंपरिक मार्केटिंग और MLM की तुलना के समय करते है, वो ऑनलाइन मार्केटिंग में मुमकिन होता है। ऑनलाइन वितरण में लोजीस्टिक के माध्यम से प्रॉडक्ट सीधे वेयरहाउस से उपभोक्ता के पास पहुँचते है।

जिससे हमें ऑनलाइन प्रॉडक्ट, मार्केट से सस्ते में मिलते है। इसके विपरीत नेटवर्क को कमीशन बाटने के कारण MLM में प्रॉडक्ट महंगे हो जाते है।

ऑनलाइन मार्केटिंग आसान भी है, आप मिनटों में कुछ क्लिक पर अपने प्रॉडक्ट को पूरी दुनिया के सामने ला सकते है।

भविष्य में ऑनलाइन मार्केटिंग व ई-कॉमर्स का चलन और भी ज़्यादा होगा, क्योंकि लाखों-करोड़ो लोग अब इंटरनेट से छोटे शहरों और गाँवो से जुड़ रहे है, इससे ड्रॉपशिपिंग, लोकल ई-कॉमर्स जैसे नए बिज़नेस के अवसर खुल रहे है।

फ्लिपकार्ट का टर्नओवर 2019 में 43,000 करोड़ से ज्यादा का था और भारत में फ्लिपकार्ट को शुरू हुए अभी पूरे 15 साल भी नहीं हुए है। जबकि डायरेक्ट सेलिंग को 2 दशक से ज्यादा का समय हो चुका है। इसलिए MLM पारंपरिक और ऑनलाइन मार्केटिंग, दोनों के आगे प्रभावी नहीं है।

बेशक लीडर MLM को बड़ा और बेहतर कहेंगे ही, क्योंकि यह उनकी आमदनी का स्रोत है, पर जब निष्पक्ष होकर आंकड़े और तथ्य पर नज़र डालते है, तो MLM पिछड़ जाती है।

Affiliated Marketing

नेटवर्क मार्केटिंग की जगह अब एफिलिएटेड मार्केटिंग (Affiliated Marketing) बेहतर विकल्प सामने आती है। एफिलिएटेड मार्केटिंग में प्रॉडक्ट को खरीदना नही पड़ता है, बल्कि अपने सहारे लोगो को कंपनी के पास भेजना होता है। अगर किसी को प्रॉडक्ट/सर्विस पसंद आये, तो वे डायरेक्ट कंपनी से प्रॉडक्ट खरीद सकते है और हमे हमारा प्रॉफिट मिल जाएगा।

नेटवर्क मार्केटिंग में प्रोडक्ट को खरीदना जरूरी है, उसके बाद अगर प्रॉडक्ट ना बिके तो नुक़सान भी हमारा ही होगा। वही एफिलिएटेड मार्केटिंग में निवेश करने की कोई जरूरत नही होती है और कंपनी के जितने चाहे उतने प्रॉडक्ट का प्रमोशन कर सकते है, वो भी उन्हें बिना खरीदे।

एफिलिएटेड मार्केटिंग में MLM की तरह प्रॉडक्ट/सर्विस की कीमत ज़्यादा नहीं बढ़ती है, क्योकि इसमें कमीशन एक ही व्यक्ति को देना होता है।

अमेज़न ,फ्लिपकार्ट जैसी कंपनी अपने अधिकतर प्रॉडक्ट पर एफिलिएटेड मार्केटिंग लोगो से करवाती है और इनकी इतनी सफलता में एफिलिएटेड मार्केटिंग का भी योगदान रहा है। वही होस्टिंग और डोमेन कंपनी, ऑनलाइन शॉपिंग साइटप्लेस्टोर पर बहुत से सॉफ्टवेयर है, जो बतौर एफिलिएटेड मार्केटर उनसे जुड़ने का मौका देते है और अच्छा खासा कमिशन भी देती है। बस अपने पास अच्छी जनता होनी चाहिए।

पर ऐसा नहीं है, कि एफिलिएटेड मार्केटिंग में भी सब कुछ अच्छा है। आज के समय में एफिलिएटेड मार्केटिंग के नाम पर भी फ्रॉड होते है और कई बार लोग खुदके ज़्यादा कमीशन के लिए गलत या महंगे प्रॉडक्ट का प्रचार करते है।

निष्कर्ष

वर्तमान में दुनिया बेहद जल्दी बदल रही है, ऐसे में हर व्यक्ति को इस बदलाव का हिस्सा बनना पड़ता है और अपने कार्यशैली, व्यवहार और विचार को अपडेट करना होता है।

ऐसे में अपने भविष्य के लिए किसी एक इंडस्ट्री पर किसी और के कहने पर निर्भर ना रहें। आपको अपना रास्ता स्वयं बनाना होगा। इसलिए जहाँ मौके दिखें और जिस दिशा में आपको पूरा आत्म-विश्वास है, उस तरफ बढ़ते रहे। याद रखें, मौके हर जगह है, बस परखने वाला होना चाहिए।

हमें उम्मीद है, कि यह लेख आपको पसंद आया होगा और डायरेक्ट सेलिंग के भविष्य (MLM Future in Hindi) पर कुछ नया जानने को मिला होगा।

अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है, तो हमें कमेंट में जरूर बताए।

SHARE IT

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on email
Hemant Kumawat

Hemant Kumawat

हेमंत कुमावत एक MLM विश्लेषक और ब्लॉगर है, जो निष्पक्ष डायरेक्ट सेलिंग कंपनियों का अवलोकन करते है और TechMistri.com से लोगों को इस इंडस्ट्री के प्रति शिक्षित करते है। आप इनसे फेसबूक पेज, इंस्टाग्राम और टेलीग्राम के माध्यम से संपर्क कर सकते है।

45 thoughts on “Future of Direct Selling in India | MLM का भविष्य क्या है?”

  1. Pramod krishnam. Mandal

    Aap ka is post se bahut kuchh jakariya mili or AAJ KE DOOR ME “MLM” COMPANY BAHUT TEJI SE GROUTH HO RAHA HAI …OR 2025 TAK BAHUT JAYADA GROUTH HOGA….

  2. Aap is post se bahut kuch sikhne ko mila direct sell is a good business our life I Am joining direct selling business

  3. Sir ji it’s not a job it is bussiness
    Sir your explanation about mlm is very nice.
    In 2025 direct selling market give boom in India.
    Thanks a lot

    1. Prince Herbal Enterprises(8881429237)

      Absolutely mere Dost
      Bs apke andar sikhne ki lalak aur paise kmane ki aag honi chahiye

  4. Khan Ali Motorwala

    Future of MLM is still zero first company was Amway still people getting fooled by MLM companies Mr. Ashwin More, Mr. Hemant Gupta, Mr. Rakesh Sharma, Mr. Bhola Patel, Mr. Nilesh Sharma and many more in this group cheated thousands of people. and still they are fooling so many.

  5. good after noon sir but products of rcm are very costly in our area most of the army person and retaired army person they compaire with csd items

  6. krishna rajput diwaniya 9111114120

    your write boss this MLM company bahut faurd hoti hai ye 18 se 28 year walo ko hi jyda fasa thi or jiske pass knowleage nhi wo log jaldi fas jata so plz gyus direct seling se sirf logo chutiya bna skte or unki bhana ke sath khilwad ant me anke life khraf krnna or koi MLM marketing hi kr skta jo sala itna hyper kr ke kam karwate so plz dhyan rakhye or dusro ko be na join karne de

  7. Thank you sir apne mlm ke bare me bahut acha batyaa
    Aj ke time pe sabse best he network marketing agar ham achi company ko chose kare to mlm business bahut sandar he ..

  8. अच्छा लेख था पढ़ के अच्छा लगा क्योंकि MLM की सारी जानकारी है इसमें ।
    Mlm और affiliate marketing के बीच difference भी अच्छे से बताया गया है
    आपका ह्रदय की गहराई से धन्यवाद आपने इतनी अच्छी और मूल्यवान जनरी दी ।

  9. मैं अपने देश के नव युवकों को सिर्फ यही कहना चाहता हु। कि सपने देखो, पर जिसमे अपनी रुचि हो, पैसे के पीछे मत भागो। ये MLM वाले आपका गोल्डन समय खा जायेंगे , मैं आप से यही कहूंगा । आप अपना खुद का कोई जॉब करे, लगन से सफलता अवश्य मिलेगी। इनसे बच के रहो।।।।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

MLM से जुड़ी खबरें मुफ्त में पाये

close button