fbpx

PACL घोटाले की पूरी कहानी | SEBI Vs PACL

PACL Scam Explained in Hindi: इस लेख में हम PACL घोटाले की पूरी कहानी जानेंगे, जिसमें हम देखेंगे, कि कैसे PACL की शुरुवात हुई और अपने निवेश प्लान के द्वारा लोगों को कैसे आकर्षित किया व फिर अंत में कैसे SEBI ने PACL पर कार्यवाही की।

PACL India Limited

PACL India Limited की शुरुवात 13 फरवरी 1996 को राजस्थान के जयपुर में हुई थी। PACL की फुल फॉर्म “PEARL AGROTECH CORPORATION LIMITED” है।

PACL के संस्थापक का नाम निर्मल सिंह भंगू है, जो पहले एक समय में साइकल पर दूध बेचते थे और कुछ सालों बाद अपनी खुदकी निवेश कंपनी शुरू की।

pacl-scam-story-in-hindi

PACL के पास अपने सारे सरकारी सर्टिफिकेट थे और MCA के अंतगर्त रजिस्टर भी थी, जिसके कारण लोगो का इस कंपनी पर विश्वास आसानी से बना गया। लेकिन उस समय किसे पता था, कि PACL देश का सबसे बड़ा पोंज़ी स्कीम घोटाला करेगी।

PACL Investment Scheme

PACL की शुरुवात जबसे हुई थी, तब से यह बड़े-बड़े दावे करती आई है। PACL लोगो को पैसे लगाने के लिए लुभाती थी और नई-नई पॉलिसी लाती थी।

PACL लोगो को पैसा निवेश करने को बोलती थी और थोड़े समय में ज्यादा ब्याज के साथ रिटर्न देने का वादा करती थी।

PACL हर महीने निवेशकों से निश्चित राशि लेती थी, इसे हम SIP (Systematic Investment Plan) भी कह सकते है। फिर उस राशि को PACL भिन्न क्षेत्रों में निवेश करती थी और बाद में निवेशकों को जमीन या पैसों से भुगतान करती थी।

PACL की शुरुवात में काफी लोगों को अच्छा रिटर्न मिला भी था और जिससे इसकी लोकप्रियता बढ़ती गयी।

जब लोगो को इस कंपनी के बारे में पता लगा, तो हज़ारों लाखो की तादाद में लोगो ने इस कंपनी में इन्वेस्टमेंट करना शुरू कर दिया। हैरान करने वाली बात यह है, कि PACL में निवेश करने वाले लोगो की तादाद करोड़ो के पार चली गयी।

इसके बाद PACL ने हजारो-करोड़ो रुपये में खेती के लिए जमीन और दूसरी प्रॉपर्टी विदेश और देश के बड़े शहरो के पास जैसे मुम्बई, दिल्ली, वडोदरा, पुणे, मोहाली, इंदौर आदि में खरीदी और उसके आगे अपना अन्य काम करती थी।

जैसा कि आपको पहले बताया, कि PACL के निवेशकों की संख्या करोडो में पहुँच गयी थी। पुरे देश में कुल 5 करोड़ PACL INDIA LTD के छोटे-बड़े निवेशक बने। वही PACL INDIA LTD के पास कुल 59 हज़ार करोड़ से ज्यादा का निवेश आया।

1998: PACL Vs SEBI 

PACL कंपनी की शुरुवात 1996 में हुई थी और 1998 में SEBI से भिड़त हुई। SEBI (Security and Exchange Board of India) कोई मामूली संस्था या कमिटी नहीं है, SEBI भारत में मौजूद सार्वजनिक वित्त पोषित कंपनी पर नज़र रखती है।

1998 में SEBI, PACL को नोटिस भेजती है और उनकी स्कीम के सही और गलत होने का दावा मांगती है। PACL की तरफ से कंपनी का पूरी तरह से सही और कुछ गलत ना होने का जवाब आता है।

SEBI के कारण मामला राजस्थान हाई कोर्ट में 1999 में जाता है और कोर्ट से SEBI के कार्यक्रताओं से वापस जांच करने की गुआर लगाई जाती है। सन 2000 में SEBI कंपनी के विसंगति होने का पक्का दावा करती है और मामला और तेज हो जाता है। जिससे मामला कोर्ट में चलता रहता है।

2002 में SEBI, PACL की स्कीम को गलत CIS (COLLECTIVE INVESTMENT SCHEME) कहती है।

उस समय PACL का कहना था, कि वे MCA के अंतर्गत आते है, नाकि SEBI के। इसके अतिरिक्त PACL ने जमीन खरीदने और निवेशकों को देने के कागजात भी बताए थे।

अगले ही साल 2003 में राजस्थान हाई कोर्ट SEBI के इस दावे को पूरी तरह से गलत मानती है और PACL की तरफ फैसला सुनाती है।

2003-2013: दस साल के लिए थमा मामला

जब राजस्थान हाई कोर्ट से SEBI को हार मिलने के बाद पूरे 10 साल तक मामला शांत रहता है। इस बीच कोई भी बड़ा फैसला नहीं होता है और PACL अपना विकास करती रहती है।

हाई कोर्ट का फैसला PACL के पक्ष में होने के कारण लोगों का PACL पर और भरोसा बढ़ गया। परन्तु आगे जो होता है, वह PACL INDIA LTD के अस्तित्व को हिला देता है।

2013: PACL का मामला सुप्रीम कोर्ट में

पुरे 10 साल तक SEBI ने PACL को लेकर ज्यादा कार्यवाही नही की, परन्तु 2013 में जब मामला सुप्रीम कोर्ट के पास आता है, तो SEBI पूरी तैयारी के साथ आती है। 2013 में सुप्रीम कोर्ट, हाई कोर्ट और SEBI की पुरानी कार्यवाही और रिपोर्ट को एक तरफ रख देती है।

2014 में सुप्रीम कोर्ट SEBI और CBI दोनों की नियुक्त करती है और एक बार फिर जांच का आदेश देती है।

इस बार SEBI के साथ CBI भी जांच के बाद, PACL के खिलाफ केस फाइल करवाती है और 46 हज़ार करोड़ रुपए वापस PACL में निवेश करने वालो को वापस देने का आवेदन भरवाती है।

इस बार सुप्रीम कोर्ट SEBI के साथ फैसला सुनाती है और PACL में लेन देन को लेकर के कमिटी का गठन करती है। जिसमे कितने लोगो का कितना पैसा है, इस पर अधिक जानकारी की जांच शुरू होती है।

2016: PACL से पैसा रिफंड नही

सुप्रीम कोर्ट से निवेशकों के पैसे वापस देने का आर्डर PACL पर आता है। जिसमें SEBI मध्यस्थ का काम कर रही है।

PACL se paisa kab milega

परन्तु, SEBI अभी तक लोगो के पैसे रिफंड करने में असक्षम रही है। करीब 5 करोड़ से ज्यादा लोगो ने निवेश PACL में किया है, जो बीते कुछ सालों से अपने पैसे वापस पाने का इंतज़ार कर रही है।

SEBI ने सितम्बर, 2020 में दावा किया है, कि उन्होने 12 लाख निवेशक, जिनकी निवेश राशि 10,000 रुपये तक थी, उनके 429.13 करोड़ रुपये रिफ़ंड कर दिये है।

इससे पहले 1 लाख से ज्यादा निवेशक, जिनकी निवेश राशि 2,500 रुपये तक थी, उन्हें भी रिफ़ंड मिल चुका है।

PACL से पैसा कब मिलेगा?

SEBI ने सिर्फ 12 लाख निवेशकों को रिफ़ंड किया है, जो कुल निवेशकों में से 1 प्रतिशत भी नहीं है।

PACL का पैसा रिफ़ंड कब मिलेगा? इसी सवाल का जवाब आज देश में करीब 5 करोड़ लोग ढूंढ रहे है। क्योंकि 60 हज़ार करोड़ रुपए बहुत बड़ी रकम है। वही PACL की प्रॉपर्टी तो बिकने की कगार पर है, ऐसे में लोग ब्याज के साथ नहीं, सिर्फ निवेश किया हुआ पैसा मांग रहे है।

कुछ लोग इसमें सरकार को दोष दे रहे है, पंरतु यह मामला PACL, SEBI और सुप्रीम कोर्ट के बीच का है, जिसमे सरकार भी इतनी दखल नही दे सकती।

निवेशक अभी सिर्फ SEBI की तरफ से अगले फैसलों का इंतज़ार करें। इसके आलवा आप PACL और SEBI के मामले की सही-सही और सबसे पहले, SEBI की ऑफिसियल साईट पर देख सकते है।

PACL को लेकर अफवाह

PACL से पैसे ना मिलने से बहुत से लोग परेशान है, परन्तु PACL के नाम पर इन्टरनेट पर बहुत सी आफवाये फैलाई जा रही है। यूट्यूब पर हर रोज नयी वीडियो डाली जाती है, जिसमे लोगो को उल्टी-सीधी खबरे सुनाकर लोगो का ध्यान खींचा जा रहा है।

इंटरनेट पर मिलने वाली हर जानकारी पर विश्वास ना करें और इंतज़ार ही एकमात्र समाधान निवेशकों के पास बचता है।

निष्कर्ष

हमे उम्मीद है, कि आपको PACL और SEBI के बीच का पूरा मामला समझ आ गया होगा।अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो हमे कमेंट में जरूर बताए।

SHARE IT

Share on facebook
Share on whatsapp
Share on twitter
Share on email
Hemant Kumawat

Hemant Kumawat

हेमंत कुमावत एक MLM विश्लेषक और ब्लॉगर है, जो निष्पक्ष डायरेक्ट सेलिंग कंपनियों का अवलोकन करते है और TechMisti.com से लोगों को इस इंडस्ट्री के प्रति शिक्षित करते है। आप इनसे फेसबूक पेज और इंस्टाग्राम के मध्याम से संपर्क कर सकते है।

6 thoughts on “PACL घोटाले की पूरी कहानी | SEBI Vs PACL”

  1. Sebi ne bahut hi achhchi kam ki thi 1998 me us taim kuch sunwae hue bolti to …utna jada pysha nhi ke pati …or 2003 me rahisthan hachi kot ne galat nirnaye liye jo sebi ko galat dhara diye ..uske bad 2013 me sunwae hue tab tak to pure 10 sal me bahu rakam le liye the..pacl

  2. Sir mere papa ne pacl me paise invest kar rahe h ab vo expire ho gy h tho kya un Ke paise wapis mil sakte h kya sir ab hamare pass paise kamane ka koi or jariya nhi h tho sir pls meri help kare or pls iska reply kare

    1. Hemant kumawat

      शलेन्द्र जी, PACL का सर्टिफिकेट और रिसिप्ट अगर आपके पास है, तो आप खुद आवेदन कर सकते है.

  3. Sir paisa vapas hoga ya ni yhe btiye please sir……..give me reply ……..qki humare papa ko log bahut paresaan krte hai or hume bahut bura lagta hain………please help me

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *