MLM में Upline, Downline व Sideline क्या होता है?


इस लेख के द्वारा हम डायरेक्ट सेलिंग बिजनेस के बहुत जरूरी शब्द अपलाइन और डाउनलाइन के बारे में जानकारी देंगे। साथ ही किसी MLM प्लान में Width और Depth का मतलब क्या होता है, यह भी चार्ट के माध्यम से समझेंगे।

इसके अतिरिक्त डिस्ट्रीब्यूटर रैंक कैसे इनकम में महत्व रखता है, यह भी जानेंगे। तो चलिए यह MLM गाइड शुरू करते है।

Upline और Downline क्या है?

MLM का मतलब मल्टी-लेवल मार्केटिंग होता है, जिसमें कोई भी व्यक्ति जुड़ सकता है। मल्टी-लेवल से तात्पर्य है, कि इसमें शामिल लोग एक से अधिक (Multi) लेवल पर तैनात होते है।

MLM को डायरेक्ट सेलिंग भी कहा जाता है और डायरेक्ट सेलिंग के प्रतिभागी को डायरेक्ट सेलर, डिस्ट्रीब्यूटर, वितरक और रिप्रेजेंटेटिव जैसे शब्दों से जाना जाता है।

MLM में डिस्ट्रीब्यूटर को 2 मुख्य काम करने करते होते है। पहला प्रॉडक्ट की बिक्री (Product Retailing) और दूसरा ज्यादा से ज्यादा लोगो को कंपनी से जोड़ना (Recruitment)।

लोगो को जोड़ने यानी नेटवर्क बिल्डिंग के द्वारा ही एक डिस्ट्रीब्यूटर, MLM लीडर बनता है और यहाँ से Upline और Downline का महत्व समझना जरूरी है।

हर एक MLM कंपनी चाहती है, कि उनकी कंपनी से ज्यादा से ज्यादा डिस्ट्रीब्यूटर जुड़े और इसके लिए रेफरल (Referral) की सुविधा उपलब्ध करवाती है।

यानी कोई भी मौजूद डिस्ट्रीब्यूटर, MLM कंपनी से नए डिस्ट्रीब्यूटर को जोड़ सकता है। जिसमें कुछ इस प्रकार की डिस्ट्रीब्यूटर संरचना बनती है।

पढ़िए: PV, BV और DP का मतलब क्या है?

Upline व Downline का मतलब

इस नेटवर्क संरचना में अपलाइन और डाउनलाइन जैसे शब्दों का उपयोग होता है। मान लीजिये, आप किसी MLM कंपनी से जुड़ते है, तो जिसने आपको कंपनी से जोड़ा है, वह आपका अपलाइन कहलाता है।

अब भविष्य में, जब आप किसी को उस MLM कंपनी से जोड़ते है, तो वो आपका डाउनलाइन कहलाता है। यहाँ जोड़ने से तात्पर्य है, कि नए डिस्ट्रीब्यूटर आपके रेफरल कोड या लिंक से जॉइन होकर, रजिस्ट्रेशन और प्रोडक्ट-खरीद पूरी करते है।

जिन लोगों को आपकी अपलाइन ने जोड़ा है और आपकी डाउनलाइन में नहीं होते है, उन्हें साइडलाइन (Sideline) कहते है।

इसके अतिरिक्त, जिन लोगो को आपकी डाउनलाइन नेटवर्क में जोड़ती है, वह भी आपकी डाउनलाइन कहलाती है। लेकिन निजी रूप से जोड़े डिस्ट्रीब्यूटर को डायरेक्ट डाउनलाइन (Direct Downline) या फ्रंटलाइन (Frontline) कहते है। जबकि अन्य डाउनलाइन इनडाइरेक्ट-डाउनलाइन (Indirect Downline) कहलाती है।

इसी प्रकार, आपकी अपलाइन की भी अपलाइन को इन-डाइरेक्ट अपलाइन (Upline) कहते है।

डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन अनुसार, कोई भी MLM कंपनी सिर्फ लोगो को जोड़ने पर पैसे नहीं दे सकती है। बल्कि डिस्ट्रीब्यूटर की कमाई खुदकी और डाउनलाइन द्वारा की गई प्रोडक्ट खरीद-बिक्री पर होती है। MLM डिस्ट्रीब्यूटर को डायरेक्ट और इन-डाइरेक्ट दोनों डाउनलाइन से कमीशन मिलता है, लेकिन यह कंपनी के इनकम प्लान पर तय होता है।

पढ़िए: MLM Software क्या है?

Width व Depth क्या होता है?

आपने भी कभी सुना होगा, कि MLM कंपनी के प्लान कई प्रकार के होते है, जैसे बाइनरी, जनरेशन, मैट्रिक्स, हाइब्रिड आदि। ये सभी प्लान MLM कंपनी में डिस्ट्रीब्यूटर की संरचना को दर्शाती है, लेकिन इनमें फर्क क्या होता है?

दरअसल, MLM प्लान में अंतर समझने के लिए Width और Depth महत्वपूर्ण है।

Width से मतलब है, कि आप अपनी डायरेक्ट-डाउनलाइन यानी फ्रंटलाइन में अधिकतम कितने डिस्ट्रीब्यूटर ला सकते हो। जैसे बाइनरी प्लान में आप अपनी लेफ्ट और राइट पोजीशन में 1-1 डाउनलाइन जोड़ सकते है, यानी बाइनरी प्लान की Width 2 होती है। जबकि अधिकतर मैट्रिक्स प्लान की Width 3 होती है, जिसमें अधिकतम 3 डिस्ट्रीब्यूटर फ्रंटलाइन में होते है।

जनरेशन और अन्य MLM प्लान की Width कंपनी खुद तय करती है, क्योंकि कंपनी का इनकम प्लान इसी संरचना पर निर्भर करती है। नीचे दिए उदाहरण में Width चार है, क्योंकि अधिकतम 4 डिस्ट्रिब्युटर ही फ़्रंटलाइन में डाल सकते है।

डेप्थ (Depth) और लेवल (Level), 2 समान शब्द है। MLM कंपनी में लगातार लोग जुड़ते जाते है और नेटवर्क बढ़ता जाता है। अक्सर हम सुनते है, कि इस MLM लीडर की डाउनलाइन में लाखों डिस्ट्रीब्यूटर है इसलिए अच्छी कमाई होती है, लेकिन यह कथन अधूरा होता है।

MLM कंपनी डाउनलाइन में मौजूद सभी डिस्ट्रीब्यूटर की प्रोडक्ट खरीद पर पैसा नहीं देती है, बल्कि उसकी एक सीमा होती है, जिसे डेप्थ या लेवल कह सकते है

लेवल एक काल्पनिक अंक है, जो दर्शाता है कि आपको कितने डाउनलाइन लेवल तक कमीशन मिलेगा। ऊपर दिए चार्ट में देख सकते है, कि लेवल कैसे होते है।

MLM रैंक क्या है?

अधिकतर MLM कंपनी में रैंक का प्रावधान होता है। रैंक एक उपाधि होती है, जो डिस्ट्रीब्यूटर को निश्चित शर्ते पूरी करने पर दी जाती है।

जैसे कि एक महीने में डाउनलाइन द्वारा 1000 PV की प्रोडक्ट खरीद पर डायमंड रैंक मिलेगा। रैंक का उपयोग डिस्ट्रीब्यूटर को प्रोत्साहित करने और कुछ बोनस देने के लिए होता है।

इसलिए MLM डिस्ट्रीब्यूटर को रैंक बनाये रखने की जरूरत पड़ती है, ताकि उन्हें ज्यादा इनकम हो।

पढ़िए: 8 बेस्ट नेटवर्क मार्केटिंग बुक्स

शेयर करे : Share It

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *