fbpx

IMC श्री तुलसी के फायदे, साइड इफ़ेक्ट और उपयोग

Disclaimer: This content is solely based on our personal opinion and we do not want to degrade any community & company. This post is just personal review expressed by writer which may be admiration or criticism. Do not rely on this site for any decision making.

इस पोस्ट में हम देखने वाले है,भारतीय MLM कंपनी IMC के एक प्रोडक्ट, IMC श्री तुलसी के फायदे, नुकसान, Side-Effect, dosage और कीमत.

देश डायरेक्ट सेलिंग कंपनी की कोई कमी नही है और संख्या बढती ही जा रही है. वही 0.04 % की MLM सफलता दर चौकाने वाली है.

Nutrition, Wellness, Computer Course और हॉलिडे पैकेज, कुछ ऐसे प्रोडक्ट/सर्विस है, जिनकी बिक्री अधिकतर MLM कंपनी करती है. जैसे Herbalife, FLP, Naswiz आदि. IMC भी हेल्थ से जुड़े प्रोडक्ट पर ध्यान देती है.

बाजार में वैसे तो बहुत सारी आयुर्वेदिक प्रोडक्ट उपलब्ध है, लेकिन आज हम आपको एक ऐसे प्रोडक्ट की बात करने वाले है, जिसक पौधा अधिकतर लोगो के घर में होता है, IMC श्री तुलसी.

IMC Shree Tulsi के बारे में आपने सुना होगा, अगर आप MLM इंडस्ट्री में हो या तुलसी प्रोडक्ट का इस्तेमाल करते हो.

आज के समय अधिकतर लोग बाज़ार में मिलने वाले प्रोडक्ट्स पर वास्तविक पौधे से ज्यादा भरोषा करते है. तुलसी के गुणों से बनी IMC श्री तुलसी भी ऐसा ही प्रोडक्ट है.

IMC Shree Tulsi in Hindi

इसके आलवा IMC के डायरेक्ट सेलर Shree Tulsi Weight Loss में इस्तमाल करने को भी कहते है.

तुलसी वैसे तो बहुत लोगो के घर में होती है, जो की 200 से ज्यादा बीमारियों से बचाती है। तुलसी हम सभी के घरों में हमेशा से कई छोटी-छोटी बीमारियों के इलाज के उपयोग में ली जाती है । तुलसी बहुत गुणकारी होती है और इसके बहुत सारे फायदे भी है।

तुलसी का सेवन करने से फ्लू, स्वाइन-फ्लू , शुगर, एलर्जी, मोटापा,कैंसर, कान में दर्द व बालो की देखभाल करने के लिए भी किया जा सकता है।

तो चलिए जानते है. IMC श्री तुसली के बारे में. जिसमे IMC Shree Tulsi Uses and Benefits भी शामिल है. इस लेख को आप IMC Shree Tulsi Review भी समझ सकते है.

नोट: आप IMC श्री तुलसी जैसे प्रोडक्ट का इस्तमाल घरेलु रूप से कर सकते है. लेकिन कोई रोगी बिना डॉक्टर या विशेषज्ञ की सलाह लिए बिना अपनी बीमारी का इलाज इस तरह के प्रोडक्ट से ना करे. इससे समस्या बढने का खतरा है.

IMC Shree Tulsi क्या है?

तुलसी के प्रोडक्ट्स, ऐसे तो बहुत सारी कंपनिया बनाती है, लेकिन श्रीश्री तत्त्व तुलसी और IMC श्री तुलसी सबसे लोकप्रिय है ।

IMC तुलसी ड्रॉप्स (IMC Tulsi Drops) में होती है, जिसे पानी में डालकर पी भी सकते है और कान या नाक के दर्द में बून्द के रूप में भी डाल सकते है।

IMC श्री तुलसी पांच तरह की तुलसी के अर्क का मिश्रण है,जो की नीचे लिखी गयी है ।

  1. वन तुलसी
  2. राम तुलसी 
  3. निम्बू तुलसी 
  4. श्वेत तुलसी
  5. श्याम तुलसी।

इन सभी तुलसी में एंटीऑक्सीडेंट, एंटीडीसीज, एंटीएलर्जीक, एंटीइंफ्लेमेट्री, एन्टीफ्लू और नेचुरल एंटीबायोटिक होते है, जो कि बहुत सारी बीमारियों के निवारण में लाभदायक है।

IMC Shree Tulsi Benefits & Side Effects

IMC श्री तुलसी के बहुत सारे फायदे है और बराबर मात्रा में नही लेने पर कभी इसके साइड इफेक्ट्स भी हो सकते है जो हम आपको नीचे बता रहे है।

ध्यान रखिये, अगर किसी को IMC श्री तुसली के इस्तमाल से साइड इफेक्ट होते है और फिर भी सेवन शुरू रखते है, तो IMC श्री तुलसी के नुकसान सामने आते है.

IMC श्री तुलसी के फायदे

  • IMC श्री तुलसी अनेक रोगों के उपचार के लिए काम आती है, जिसके कुछ फायदे उपयोग करने की विधि के साथ नीचे बताये गये है ।
  • कान में दर्द और नाक में फोड़े-फुंसी होने पर इसकी चार-पांच गुन-गुनी करके डालने पर इससे छुटकारा पाया जा सकता है ।
  • बालो की समस्या के लिए भी ये बहुत लाभकारी है, इसलिए यह कही शैम्पू और तेल में भी पाया जाता है ।
  • बालो के सफेद होने या झड़ने या जूओं से निजात पाने के लिए इसको तेल में मिलाकर बालों में लगाये और जूओं के लिए निम्बू के रस की भी कुछ बुँदे मिला ले ।
  • दांतो में कीड़े, मसूड़ो से खून, मुंह से दुर्गन्ध आना, गले में दर्द या खांसी जैसी समस्या के लिए इसकी 5-6 बुँदे पानी में मिलाकर कुल्ला करे ।
  • त्वचा के लिए भी तुलसी बहुत ही गुणकारी है। आग से जलना, दाद, घाव, खुजली की सफाई करने में भी इसका उपयोग किया जाता है । सफ़ेद दाग व स्ट्रेच जैसी त्वचा की बीमारियों के लिए नारियल तेल में इसको मिलाकर लगाये, जिससे ये कम हो जाते है ।
  • झुर्रिर्या , काले धब्बे और त्वचा को कोमल बनाने के लिए श्री तुलसी की कुछ बुँदे एलोवेरा जेल के साथ में लगाना चाहिए।
  • कफ सिरप बनाने के लिए तुलसी एक महत्वपूर्ण तत्व है क्योंकि तुलसी जमा कफ को साफ करती है। श्री तुलसी का सेवन करने से फेफड़ो की बीमारी , धूम्रपान से होने वाले नुकसान व टीबी जैसी भयानक बीमारियों को कम करता है। निमोनिया से बचने के लिए भी श्री तुलसी की 2 बूंद के साथ शहद का सेवन करना चाहिये।
  • बुखार और मौसम बदलाव से होने वाली खांसी झुकाम में भी श्री तुलसी की कुछ बुँदे शहद के साथ या लौंग और नमक के साथ सेवन करनी चाहिये ।
  • IMC श्री तुलसी में बहुत सारे एंटीऑक्सीडेंट , मिथाइल युजेनॉल, और जरूरी तैलीय तत्व होते है जो कि इन्सुलिन की उत्तपत्ति ने सहायक होते है जो कि शुगर की मात्रा सुनिश्चित करते है।
  • IMC तुलसी शरीर में कोलेस्ट्रोल को भी नियंत्रण में रखता है जिससे की ह्रदय रोगों व ब्लड प्रेशर जैसी बीमारियों से बचा जा सकता है  ।
  • IMC श्री तुलसी के सेवन से शरीर में लाल ब्लड सेल में वृद्धि होती है और यह खून को साफ़ करने में भी लाभकारी है ।
  • IMC श्री तुलसी में बहुत सारे एंटीऑक्सीडेंट और एडाप्टोजेन है जो की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाते है । श्री तुलसी मोटापे को कम करने के लिए भी उपयोग किया जाता है ।

IMC श्री तुलसी के साइड इफेक्ट 

IMC तुलसी भले ही प्राकृतिक पदार्थ से बना है लेकिन प्राकृतिक पदार्थो के भी अधिक सेवन से कई साइड इफेक्ट्स हो सकते है। वैसे ही IMC श्री तुलसी के अधिक सेवन से भी इसके साइड इफेक्ट देखे जा सकते है । IMC श्री तुलसी का सेवन ज्यादा मात्रा में नही करना चाहिए और किसी मेडिकल ट्रीटमेंट में चल रहे, इंसान को भी इसका उपयोग परामर्श के बाद ही करना चाहिए। IMC श्री तुलसी के कुछ साइड इफेक्ट्स नीचे दिए गए है ।

  • तुलसी प्रोडक्ट में में युजेनॉल नामक तत्व पाया जाता है, जिसका अधिक सेवन करने से शरीर में इसकी की मात्रा बढ़ जाती है। शरीर में ज्यादा युजेनॉल की मात्रा विषैली साबित हो सकती है, जिससे खांसी के साथ में खून या पेशाब के साथ में खून आ सकता है।
  • IMC श्री तुलसी के सेवन से पुरुषों में प्रजनन शक्ति पर प्रभाव पड़ सकता है । एक परीक्षण में साबित हुआ है कि तुलसी के ज्यादा सेवन से शुक्राणुओं की मात्रा में कमी आती है.
  • IMC श्री तुलसी का सेवन अत्यधिक मात्रा में करने से गर्भावस्था पर असर पड़ सकता है ।  तुलसी का अत्यधिक मात्रा में सेवन करने से गर्भावस्था में संकुचन और मासिक धर्म का कारण बन सकती है । विशेष रूप से महिलाओ को पहली तिमाही में तुलसी के सेवन से बचना चाहिये । स्तनपान के समय श्री तुलसी का सेवन ज्यादा नही करना चाहिये ।
  • मधुमेह रोग से पीड़ित लोग इसका सेवन ज्यादा करते है, तो उनकी रक्त शर्करा में कमी आ सकती है।
  • इसको चाय में डालकर भी सेवन कर सकते है लेकिन ज्यादा मात्रा में इसका सेवन करने से पेट में जलन और एसिडिटी हो सकती है क्योकि यह शरीर में बहुत गर्मी उत्पन्न करता है।
  • IMC श्री तुलसी का सेवन कब करना चाहिए ? 
  • IMC श्री तुलसी की तासीर गर्म होती है इसलिए लोग इसे सर्दियों में खांसी और झुकाम में उपयोग करते है , लेकिन इसका उपयोग ज्यादा नही करना चाहिए , क्योंकि इससे एलर्जी हो सकती है ।
  • वैसे तो श्री तुलसी का सेवन करने का कोई निश्चित समय नहीं है लेकिन इसे सुबह या रात को सोते समय खांसी और झुकाम के लिए उपयोग किया जा सकता है । खाना पचाने के लिए अगर आप श्री तुलसी का सेवन करते है तो खाने के बाद भी आप इसे ले सकते है ।

IMC श्री तुलसी का सेवन (IMC Shree Tulsi Dosage)

IMC श्री तुलसी की तासीर गर्म होती है, इसलिए लोग इसे सर्दियों में खांसी और झुकाम में उपयोग करते है, लेकिन इसका उपयोग ज्यादा नही करना चाहिए , क्योंकि इससे एलर्जी हो सकती है ।

वैसे तो श्री तुलसी का सेवन करने का कोई निश्चित समय नहीं है, लेकिन इसे सुबह या रात को सोते समय खांसी और झुकाम के लिए उपयोग किया जा सकता है । खाना पचाने के लिए अगर आप श्री तुलसी का सेवन करते है तो खाने के बाद भी आप इसे ले सकते है ।

Read:

IMC श्री तुलसी की कीमत?

 IMC श्री तुलसी ऑनलाइन लगभग सभी साइट पर उपलब्ध है और इसकी 20 ML की MRP 195 रूपये है, लेकिन ये आपको 150 से 130 रुपये में मिल जायेगी।

IMC Shree Tulsi को आप amazon और flipkart भी खरीद सकते है.

निष्कर्ष

हमे उम्मीद है, कि IMC श्री तुलसी प्रोडक्ट पर आपको यह पोस्ट पसंद आई होगी.

IMC Shree Tulsi Benefits और गलत तरीके से सेवन करने पर IMC Shree Tulsi Side Effects भी समझ आ गये होगे. अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव IMC श्री तुलसी ड्राप से जुदा है, तो आप कमेंट में बता सकते है.

Read:

शेयर करे : Share It

5 thoughts on “IMC श्री तुलसी के फायदे, साइड इफ़ेक्ट और उपयोग”

  1. Hame 5 mahine pehle dudinal ulcer tha lekin abhi thik hua hai lekin aj kal bahat acidity ho raha hai to kya ham shree tulshi drops le sakte hai ?

    1. आप डॉक्टर से सलाह ले. और किसी भी अवस्था में किसी भी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी के प्रोडक्ट का इस्तेमाल किसी बीमारी के इलाज़ में ना करे

  2. हरि बंश सिंह

    श्री तुलसी का उपयोग सुगर एवं लीवर के मरीज कर सकते हैं कि नहीं

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *