IELTS एग्जाम क्या है? घर बैठे पास कैसे करे?

IELTS in Hindi: अगर आपके आस-पास या घर में कोई विदेश नौकरी करने या पढ़ाई के लिए जाता है, तो उनसे आपने IELTS Exam के बारे में शायद सुना होगा।

IELTS एग्जाम विदेश में जाने वाले लोगो को देना ही पड़ता है, जो कही देशो में अब जरुरी बन चूका है।

इस लेख में आपको IELTS से जुड़े कुछ बड़े सवालो का जवाब देंगे। जैसे

  • IELTS एग्जाम क्या है?
  • IELTS जरुरी क्यों है?
  • भारत में IELTS एग्जाम कैसे दे?
  • IELTS एग्जाम में बैंड क्या होता है और ज्यादा बैंड कैसे पाए? 
  • घर बैठे IELTS पास कैसे करे?

तो चलिये अब शुरू से IELTS के बारे में जानते है।

IELTS एग्जाम क्या है? (What is IELTS exam in Hindi?)

IELTS एक ऐसा एग्जाम/परिक्षा है, जो ज्यादातर विदेश में जाने लोगो के लिए जरुरी है। IELTS का एग्जाम आपको प्रमाण देता है, कि आपको इंग्लिश (अंग्रेजी) भाषा अच्छे से आती है। IELTS की फुलफॉर्म, INTERNATIONAL ENGLISH LANGUAGE TESTING SYSTEM है, जिससे इस एग्जाम का आधा मतलब तो ऐसे ही पता लग जाता है।

ielts-in-hindi

IELTS का एग्जाम सिर्फ भारत में नहीं, बल्कि विश्व स्तर पर होता है। जिन लोगो को उन देशों में जाना हो, जहाँ अंग्रेजी मुख्य कार्यरत भाषा है, तो उन्हें किसी भी हालात में IELTS का एग्जाम पास करना ही होता है।

IELTS के संचालक British Council, Cambridge English Language Assessment और IDP Education Australia है।

IELTS के पूरे विश्व के 140 देशो में 1250 से ज्यादा टेस्ट सेन्टर है। IELTS द्वारा प्रमाणित व्यक्ति न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और UK जैसे देशों में पढ़ने के लिए आवेदन कर सकता है और IELTS की मदद से उन्हें VISA (Immigration) मिलने में आसानी रहती है।

IELTS एग्जाम कब होते है? 

IELTS अपने सभी सेंटर पर हर महीने में 4 बार परीक्षाएं लेती है और IELTS द्वारा सभी टेस्ट में भाग लेने वाले लोगो को एक सर्टिफिकेट दिया जाता है, जो 2 वर्ष तक वैध होता है, अगर आप इससे पहले पुनपरीक्षा नहीं देते है तो।

IELTS परीक्षा में प्रतिभागी के अंग्रेजी लिखने, पढ़ने ,सुनने और बोलने की क्षमता को परखा जाता है।

IELTS एग्जाम कितने प्रकार की है? (Type of IELTS Exam)

IELTS की परीक्षा दो प्रकार की है, पहली परीक्षा का नाम “ACADEMIC TEST” है और दूसरी परीक्षा का नाम “GENERAL TRANINING” है। अगर कोई व्यक्ति IELTS से प्रमाण प्राप्त करना चाहता है, तो उन्हें इन दोनों में से एक परीक्षा में सफल होना पड़ता है।

  • Academic Test

यह टेस्ट उन लोगो के लिए है, जो अपनी आगे की पढ़ाई विदेशो में करना चाहते है।

  • General Training

जनरल ट्रेनिंग का टेस्ट उन लोगो के लिए होता है, जो पढाई के अलावा अन्य किसी आधिकारिक काम से विदेश जा रहे हो। इसका लेवल Academic Test से थोड़ा कम होता है।

IELTS एग्जाम क्यों जरूरी है? (Importance of IELTS Exam)

जैसा कि हमने आपको पहले बताया है, कि IELTS नॉन-नेटिव इंग्लिश जानने वाले लोगो के लिए टेस्ट करती है और ये टेस्ट इंटरनेशनल वीसा (स्टडि या वर्क) प्राप्त करने के लिए मददगार है।

IELTS द्वारा लिए गए टेस्ट में आपकी इंग्लिश सुनने, लिखने, बोलने और पढ़ने की क्षमता को परखा जाता है, जो विदेशो में रहने और पढ़ने के लिए बहुत जरुरी होता है।

अगर किसी भारतीय को कनाडा या ऑस्ट्रेलिया जैसे कुछ अन्य देशों में पढ़ाई के लिए जाना हो, तो उन्हें IELTS में 6 या इससे अधिक बैंड लाने की जरुरत होती है। इसके बिना विदेशों में अच्छी कॉलेज और यूनिवर्सिटी में प्रवेश मिलना मुश्किल हो जाता है।

IELTS एग्जाम कैसे दे? (How to give IELTS Exam)

IELTS Exam देने के लिए आप भारत मे ऑनलाइन IELTS की आधिकारिक साइट से आवेदन कर सकते है।

british council idp

भारत में IELTS की मुख्य दो संस्था है, पहली British Council और दूसरी IDP Eductaion। ये दो संस्था ही सिर्फ भारत में IELTS के एग्जाम का आयोजन करती है।

IELTS के Academic Test की फीस 14,000 रुपये है और एक बार असफल होने पर अगली बार फिर आवेदन भर सकते है।

भारत मे कुल 47 से ज्यादा IELTS टेस्ट सेंटर है, आप उसमें से कोई भी सेंटर चुन सकते है। इसके अतिरिक्त एग्जाम के लिए आप सीधे किसी IELTS सेंटर पर भी जा सकते है।

IELTS एग्जाम कैसे होते है? (How IELTS Exam are taken)

IELTS का टेस्ट कुल 2 घण्टे 55 मिनट का होता है, जिसे निम्न भागों में बांटा गया है।

  • पढ़ना (60 मिनट)
  • लिखना (60 मिनट)
  • सुनना (40 मिनट)
  • और बोलना (15 मिनट)
what is BAND in IELTS in hindi
Image Source:- google image

IELTS परीक्षा में भाग लेने वाले प्रत्येक व्यक्ति को अंतिम में टेस्ट रिपोर्ट दी जाती है। IELTS में चेकिंग में ग्रेड दिए जाते है, जिसे बैंड के नाम से जाना जाता है, जो 0 से 9 के बीच है और सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले को पूरे 9 बैंड दिए जाते है।

अगर कोई आवेदनकर्ता टेस्ट में कोई अच्छा प्रदर्शन नहीं करता है, तो उसे कम बैंड मिलते है। जितने ज्यादा बैंड होगे, उतनी ज्यादा विदेश में अच्छी कॉलेज और यूनिवर्सिटी मिलने में आसानी होती है।

IELTS एग्जाम में ज्यादा बैंड कैसे लाये? (How to get higher band in IELTS)

हर कोई जब भी कोई शख्स IELTS के एग्जाम देने के बारे में सोचता है, उसके मन में एक ही सवाल होता है, कि IELTS में ज्यादा से ज्यादा बैंड कैसे लाए?

तो इसके लिए आपको अपनी इंग्लिश पर मेहनत करनी होगी और बोलने, लिखने, पढ़ने व सुनने की क्षमता का बेहतर करना होगा।

IELTS में अच्छे बैंड लाना ज्यादा मुश्किल काम नहीं है, बल्कि आपका इंग्लिश के साथ अनुभव और आप कितनी मेहनत करते है, उसपर निर्भर करता है।

आज के समय में बड़े शहरों में बहुत से कोचिंग सेंटर मौजूद है, जो IELTS के लिए ट्रेनिंग देते है और अच्छे बैंड लाने में मदद करते है। जो लोग इंग्लिश भाषा के साथ नए है, उन्हें आमतौर पर कोचिंग की जरूरत पड़ती ही है।

जिनकी इंग्लिश काफी अच्छी है, वे घर बैठे खुद भी IELTS की तैयारी कर सकते है। इसके लिए यूट्यूब पर बहुत सी विडियो और इंटरनेट पर शिक्षा सामाग्री उपलब्ध है।

निष्कर्ष

हमे उम्मीद है, कि आपको हमारी इस पोस्ट से IELTS से जुड़ी सभी जानकारी मिल गयी होगी।अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है, तो हमे कमेंट में जरूर बताये।



7 thoughts on “IELTS एग्जाम क्या है? घर बैठे पास कैसे करे?”

Leave a Comment

Your email address will not be published.