IELTS एग्जाम क्या है? घर बैठे IELTS पास कैसे करे?

अगर आपके आस-पास या घर में कोई विदेश किसी काम या पढाई को लेके जाता है,तो उनसे आपने IELTS के एग्जाम के बारे में शायद सुना होगा।IELTS एग्जाम ज्यादातर विदेश में जाने वाले लोगो को देना ही पड़ता है,जो कही देशो में अब जरुरी बन चूका है। इस लेख में आपको IELTS से जुड़े कुछ बड़े सवालो का जवाब देंगे।जिसमे IELTS एग्जाम क्या है? IELTS एग्जाम जरुरी क्यों है? भारत में IELTS एग्जाम कैसे दे? IELTS में ज्यादा बैंड कैसे पाए? IELTS एग्जाम में बैंड क्या होता है? घर बैठे IELTS पास कैसे करे? ऐसे सवालो के जवाब शामिल है।

 

IELTS एग्जाम क्या है? (What is IELTS exam in hindi?)what is IELTS exam in hindi

IELTS एक ऐसा एग्जाम/परिक्षा है,जो ज्यादातर विदेश में जाने लोगो के लिए जरुरी है।IELTS का एग्जाम आपको प्रमाण देता है,कि आपको इंग्लिश/अंग्रेजी भाषा अच्छे से आती है। IELTS की फुलफॉर्म , INTERNATIONAL ENGLISH LANGUAGE TESTING SYSTEM है,जिससे इस एग्जाम का आधा मतलब तो ऐसे ही पता लग जाता है।

 

IELTS का एग्जाम सिर्फ भारत में नहीं,बल्कि विश्व स्तर पर होता है।जिन लोगो को उन देशों में जाना हो, जहाँ अंग्रेजी मुख्य कार्यरत भाषा की तरह इस्तमाल की जाती है,तो उन्हें किसी भी हालात में IELTS का एग्जाम पास करना ही होता है। IELTS के पूरे विश्व के 140 देशो में 1250 से ज्यादा टेस्ट सेन्टर है। IELTS द्वारा प्रमाणित व्यक्ति UK ,न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, कनाडा और UK जैसे देशों  मे पढ़ने के लिए आवेदन कर सकता है और IELTS की मदद से उन्हें VISA मिलने में आसानी रहती है और तो ओर इसकी मदद से आप ऑस्ट्रेलिया में लिविंग वीसा के लिए भी अप्लाई कर सकते है।

IELTS के एग्जाम कब होते है? 

IELTS अपने सभी सेंटर पर हर महीने में 4 बार परीक्षाएं लेती है और IELTS द्वारा सभी टेस्ट में भाग लेने वाले लोगो को एक सर्टिफिकेट दिया जाता है।जो 2 वर्ष तक वैध होता है। IELTS परीक्षा में प्रतिभागी के लिखने, पढ़ने ,सुनने और इंग्लिश बोलने की क्षमता को परखा जाता है ।

IELTS परीक्षा कितने प्रकार की है? (Type of IELTS exam in hindi?)

IELTS की परीक्षा दो प्रकार की है,पहली परीक्षा का नाम “ACADEMIC TEST” है और दूसरी परीक्षा का नाम “GENERAL TRANINING” है।अगर कोई व्यक्ति IELTS से प्रमाण प्राप्त करना चाहता है,तो उन्हें इन दोनों में से एक टेस्ट क्लियर करना होता है।

  • Academic Test:-

यह टेस्ट उन लोगो के लिए है,जो अपनी आगे की पढ़ाई विदेशो में करना चाहते है।जिन यूनिवर्सिटी/कॉलेज में अंग्रेजी भाषा का ही इस्तमाल होता है,उनमें पढ़ने के लिए IELTS का यह टेस्ट क्लियर करना जरुरी है।

  • General Training:-

जनरल ट्रेनिंग का टेस्ट उन लोगो के लिए होता है,जो पढाई के अलावा अन्य किसी ऑफिसियल काम से विदेश जा रहे हो। इसका लेवल academic से थोड़ा कम होता है।

IELTS एग्जाम क्यों जरूरी है? (Importance of IELTS exam in hindi?)

जैसा कि हमने आपको पहले बताया है,कि IELTS नॉन-नेटिव  इंग्लिश जानने वाले लोगो ( जिन्हें अंग्रेजी का इतना ज्ञान नही है) के लिए टेस्ट करती है और ये टेस्ट इंटरनेशनल वीसा प्राप्त करने के लिए मददगार है। IELTS द्वारा लिए गए टेस्ट में आपकी इंग्लिश सुनने, लिखने, बोलने और पढ़ने की क्षमता को परखा जाता है,जो विदेशो में रहने और पढ़ने के लिए बहुत जरुरी होता है।अगर किसी भारतीय को कनाडा या ऑस्ट्रेलिया पढाई के लिए जाना हो,तो उसे IELTS में 6 या इससे अधिक बैंड लाने की जरुरत होती है.इसके बिना अच्छी कॉलेज और यूनिवर्सिटी मिलना मुश्किल हो जाता है.

IELTS एग्जाम कैसे दे? (How to give IELTS exam in hindi?)

IELTS का टेस्ट देने के लिए आप भारत मे ऑनलाइन IELTS की OFFICIAL साइट से आवेदन भी कर सकते है और आवेदन करते समय आपसे टेस्ट सेंटर के बारे में पूछा जाता है।भारत मे कुल 47 से ज्यादा टेस्ट सेंटर है,आप उसमें से कोई भी सेंटर चुन सकते है।IELTS के लिए आवेदन आप ऑनलाइन भी कर सकते है,नहीं तो आप  सीधे IELTS के सेंटर पर जा सकते है। परन्तु अब कोई भी सीधे IELTS का एग्जाम नही देता है और देना भी नही चाहिए.इससे पहले इंग्लिश कोचिंग और टेस्ट पैटर्न को समझना जरुरी है.

IELTS एग्जाम कैसे होते है (How IELTS exam are taken in hindi?)

IELTS का टेस्ट कुल 2 घण्टे 55 मिनट का होता है, जिसमे पढ़ना (60 मिनट), लिखना (60 मिनट ), सुनना (40 मिनट ) और बोलने (15 मिनट ) का टेस्ट होता है ।

what is BAND in IELTS in hindi
Image Source:- google image

IELTS में भाग लेने वाले प्रत्येक व्यक्ति को अंतिम में टेस्ट रिपोर्ट दी जाती है। IELTS में चेकिंग में ग्रेड दिए जाते है,जो 0 से 9 के बीच है और सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले को पूरे 9 ग्रेड दिए जाते है। अगर कोई आवेदनकर्ता टेस्ट में पूरी तरह से असक्षम होता है, तो उसे ” 0″ ग्रैड दिया जाता है । यहाँ ग्रेड को बैंड कहा जाता है.जितने ज्यादा बैंड होगे,उतनी ज्यादा विदेश में कॉलेज और यूनिवर्सिटी मिलने में आसानी होती है.

भारत के IELTS का एग्जाम कैसे दे? (IELTS Exam in india)IELTS exam in india

भारत में IELTS की मुख्य दो संस्था है,पहली British Council और दूसरी IDP Eductaion। ये दो संस्था ही सिर्फ भारत में IELTS के एग्जाम का आयोजन करती है। भारत में कूल 47 से ज्यादा शहरों में IELTS का टेस्ट दे सकते है। अगर आप ऑनलाइन IELTS का आवेदन और शहरों का नाम जानना चाहते है,तो आप IELTS India की ऑफिसियल साइट पर जा सकते है।

IELTS एग्जाम में ज्यादा बैंड कैसे लाये? (How to get higher band in IELTS hindi)

हर कोई जब भी कोई शख्स IELTS के एग्जाम देने के बारे में सोचता है,उसके मन में एक ही सवाल होता है,की IELTS में ज्यादा से ज्यादा स्कोर कैसे करे? इस टॉपिक पर हमने कुछ लिखा तो नही है,परन्तु आपके लिए एक YOUTUBE लिंक दी है,जिसमे हिंदी में बताया गया है,की कैसे  IELTS में ज्यादा बैंड स्कोर करे.यह विडियो आपको जरुर हेल्प करेगी.

 

निष्कर्ष:-

हमे उम्मीद है,कि आपको हमारी इस पोस्ट से IELTS से जुड़ी सभी जानकारी मिल गयी होगी।अगर आपका कोई भी सवाल या सुझाव है,तो हमे कमेंट में जरूर बताये।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *