IDSA और FDSA में अन्तर व महत्व


IDSA और FDSA भारत में चल रही डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री के सबसे बड़े समुदाय है। IDSA और FDSA दोनों में कुल मिलाकर 45 से ज्यादा डायरेक्ट सेलिंग कंपनी है, जिसमें Ok Life Care, AWPL, Mi Lifestyle, व Modicare जैसे बड़े नाम भी शामिल है।

IDSA और FDSA क्या है और इनमें अंतर क्या है? (Difference Between IDSA and FDSA?) इसी विषय पर आज हम बात करेंगे। तो, चलिये शुरू से जानते है। 

IDSA और FDSA क्या है?

Difference between IDSA and FDSA

IDSA की Fullform “India Direct Selling Association” है और FDSA की Fullform “Federation of Direct Selling Association” है। IDSA और FDSA दोनो स्वतः संचालक समुदाय है, जो भारत सरकार की संस्था नहीं है।

IDSA, WFDSA (World Federation of Direct Selling Association) की मेंबर है।

IDSA को अंकित शुक्ला WFDSA में रिप्रेजेंट करते है और FDSA के प्रेजिडेंट का नाम A P रेड्डी है।

नीचे दी लिंक पर क्लिक करके आप IDSA और FDSA की सदस्य सूची देख सकते है।

Fact About IDSA

  • Amway, Avon और Oriflame IDSA की संस्थापक कंपनी है। जिसमे से एक भी कंपनी भारतीय नहीं है और समुदाय का नाम इंडियन से शुरू किया है।
  • IDSA की शुरुआत 1996 में मुम्बई में हुई थी और मोहन कृष्णन को पहला प्रेसिडेंट बनाया गया। 
  • IDSA अपनी मेंबर कंपनी से सालाना 5 लाख रुपए फीस लेती है, लेकिन इसकी पृष्टि नही की गई है।

Fact About FDSA

  • RCM, Saros Biznet, Tranz India और ARL limited ने FDSA की शुरुआत की है, जो दक्षिण भारत मे ज्यादा एक्टिव है।
  • FDSA का मुख्यालय हैदराबाद में स्थित है, वही इसकी देश के अन्यो राज्यो में ब्रांच है।
  • FDSA अपने Fellow मेंबर से 2 लाख रुपए और Provisional मेंबर से 1 लाख रुपए सालाना फीस लेती है।

IDSA और FDSA के होने के फायदे

  • सबसे बड़ा फायदा FDSA और IDSA यह है, कि दोनों समुदाय डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन का प्रचार करती है।
  • डायरेक्ट सेलिंग इंडस्ट्री में मौजूद कंपनियों को एक साथ आने का मौका IDSA और FDSA देती है।
  • IDSA और FDSA के कारण, इनकी मेंबर कंपनी में एकता बड़ी है और अपनी आवाज एक साथ रख सकते है।

IDSA, FDSA और मार्केटिंग

अगर आप अक्सर MLM कंपनियो के सेमिनार में जाते हो, तो सुना होगा की कई लीडर ताल-ठोककर कहते है, कि हमारी कंपनी FDSA या IDSA की मेंबर है। और अगर कोई MLM कंपनी FDSA या IDSA की मेंबर नही होती है, तो उसे नीचा दिखाया जाता है।

यानी की IDSA और FDSA के नाम को मार्केटिंग के लिए इस्तमाल किया जाता है। जबकि IDSA और FDSA का मेंबर होना किसी भी कंपनी के लिए जरूरी नहीं है।

IDSA और FDSA की मौजूदगी ठीक है, लेकिन बहुत-सी बातें है, जो लोगो को नहीं पता है।

IDSA में अधिकतर मेंबर कंपनी विदेशी है, जबकि देश में बहुत सी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी है, जो इनमें शामिल नहीं है।

IDSA और FDSA, अपनी मेंबर कंपनी से सालाना फीस लेती है। जिससे बहुत-सी नयी और छोटी कंपनिया इनकी हिस्सेदारी नहीं ले पाती है।

ध्यान रहे, कोई भी MLM कंपनी चुनते समय जाँच करें, कि कंपनी MCA के अंतर्गत रजिस्टर और लीगल डायरेक्ट सेलिंग कंपनी लिस्ट में मौजूद है या नहीं।

वही इन निजी समुदाय का मेम्बर होना किसी भी डायरेक्ट सेलिंग कंपनी के लिए जरूरी नहीं है।

शेयर करे : Share It

5 thoughts on “IDSA और FDSA में अन्तर व महत्व”

  1. Nikhil shrivastava

    Milife style is the best platform in Indian direct selling industry.
    Ayush certified product in premium quality.

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *